Thursday, November 1, 2012

------ ।। मधुर मिलन ।। -----



          गुरूवार, 25 अक्टूबर, 2012                                                                             

           साँझ गहीहि सकेर सकारे । ढोर गोर गउ फिरहिं दुआरे ।।
           स्याम सरन भय गगन गौरा । सुमद सुम ह्रदय गूंजे भौरा ।।
           संध्या दिन को समेट कर रात में परिवर्तित हो चुकी है, पशु अपने पैर चलकर 
               घर लौट चुके हैं, गौर वर्ण गगन कृष्ण रुप धारण कर चुका है, भौरा मगन हो 
               पुष्प के ह्रदय में गूंज रहा है ।
                
               सुर सुबंसरी अधर पधारे । रागनुरागन  रस रस धारे ।।
           अंजन रंग तरंगहि माला । थिरकइ थारू तरु तीरू तमाला ।।
           सुन्दर बंसी के सुर होटों पर विराज गए, राग एवं प्रेम के रसों को धारण किये हुवे,
               तट के तमाल वृक्ष थिरकते हुवे तरंगों की (सुर) मालाओं में कृष्ण रंग में रंग गए ।

           लहर बहर बहि बहु बहिलाहीं । बलभी बल्लभ भर गल बाहीं ।।
           सलग्न बलग्न बलित बलयिता । सुर सुर सर सर सरसउ सरिता ।।
            आनंद एवं सुख रूपी हवा बहुत प्रकार से बहला रही हैं, प्रिया प्रियतम को आलिंगन 
                कर कटि को बांधे प्रियतम पर झुकी हुई है, सुरों से हवा, नदी व प्रियतमा सभी 
                आल्हादित हैं ।

          फुलफुल फर बर भरू फुलबारी । फहर फहर झर फुहरहिं धारी ।।
          हेम अंक अंग पत अनुगामा । हिमकन बन जिमि हिमबल धामा ।।
           फुले फुले से सुन्दर फूल  वाटिका में भरे हैं , जो हवा के झौंके से ओस की फुआरों 
              को धारण किये हुवे हैं जैसे काले आकाश में चन्द्रमा मोती स्वरूप में शोभाय मान है 
              उसी प्रकार पुष्प पर ओस की बूंद व विष्णु रूपी प्रियतम के पीछे  प्रिया सजी हुई हैं 
               
                 
            हेम अंगद अलंकरण हेमांड अचलंत ।
            हिमांक अगम ऋतु चरण हुलस हुलस हेमंत ।।    
           (चाँद रूपी प्रिया) स्वर्ण आभूषण से सजा   ब्रम्हांडका स्थिर मन सुशोभित है 
                ओसमयी चाँद रूपी ऋतु, उल्लसित हेमंत के आगमन पर चरण छू रही है । 
     

           शुक्रवार, 26 अक्टूबर, 2012                                                             

           लगन लगनबट लट लहराई । लाल ललामहि लहक लहिकाई ।।
           लरि लरि लल करि ललित प्रहारा । लइ बध बेधहिं बारंबारा ।।
           प्रेम बंधन में बंधे  ( प्रिया के)केश लहरा रहे हैं, लाल रंग की सुन्दर बुँदे हिल डुल 
               रही  हैं, हिलती दुलती लड़ियाँ परस्पर लड़ कर प्रियतम को मधुर आघात कर रहीं हैं  
           बार बार के इन आघातो से बानुरी की लय बाधित हो रही है ।

           मन ही मन मोहक मुसुकाहिं । धरि करि मरुरै मनोहर ताहिं ।।
           मसकहि कस कहि कुलि कलैया । सिसकहिं अकुलहिं लहि सौं सैयाँ ।।
            अन्दर ही अन्दर मोहन मोहते हुवे मुस्कराते हैं, कान की बूंदों की कड़िया पकड़कर मोड़ते 
                हुवे हाथ से कस कर पीड़ा पहुंचा भिन्न क्रीडाएं करते हैं, सिसकती हुई व्याकुलित (प्रिया ) 
                सैंया  सम्मुख ले आते हैं  ।  

           बिनत बहु बिधि बिकल भइ भारी । स्याम सलोन नयनु निहारी ।।
           हूकहिं हूटनहि होट हुकारे । देखि दसा हरि हँसे  हुँकारे  ।।
           सुनयना स्याम को  निहारते हुवे बहुत प्रकार से विनती कर रहीं कि यह पीड़ा 
              अधिक हो गई है पीड़ापूर्ण होंठ ( बूंदों को ) पृथक करने हेतु निवेदन कर रहे हैं 
               हरि हाँ हाँ कह प्रेयषी की ऐसी दशा देख हँस पड़े  
             
           कसकहि अस कहि कटकहि काना । दीन नीर बिनु मीन समाना ।।
           हरि कहिं खड़कइ अब लइ मोरी । नहिं नहिं गोरी कहि कर जोरी ।।
            जल के बिना तड़पती हुई मीन के समान प्रेयषी कहती है कि ऐसे कसने से तो कान 
               ही कट जाएंगे, हरि कहते हैं कहो मेरी लय को अब भंग करोगी ?? राधा हाथ 
               जोड़ कहती हैं नहीं !नहीं!! 

           हिलग हिलग हरि हिय लगहिं हरि प्रिया भइ अधीर ।
           हहा हिय हिर कर हिरकहिं हरे न हिय के पीर ।।
            हरि प्रेमवश प्रिया को बाहों में भर लेते है किन्तु प्रिया व्याकुल है 
               हरि  हँस हँस कर हाथों से कटि घेर कर ह्रदय को तो हर लेते हैं 
               किन्तु पीड़ा को नहीं हरते ।   
            
           
           शनिवार, 27 अक्टूबर, 2012                                                        

           अरझइ अरचइ करज छुराई । रसमस कस अस लबक लखाई ।
           दीठ पीठ बत बैस बिरुझई । बोल न बोधहि झुठि मुठि रिसई ।।
           उलझती व अर्चना करती एवं उंगली छूड़ाकर जलते नयन से निहारते हुवे प्रिया 
               कहती है  ऐसे कस के भी कोई आनंदित होता है क्या ??और यूँ झगड़ कर पीठ 
               फेर बोल चाल बंद कर  झूठ मुठ ही रुठ बैठी ।      

           अछ बस जस सस अगड़ अगौहीं । सौरइ ससि सहुँ सहसहि सोही ।।
           निभ नछत पथ नभ चमस खींचे । भुजदंड पास भास भरु भींचे ।।
           जैसे अक्ष के वश चाँद आगे बढ़ अपनी अकड़ दिखला रहा है हंसते सांवलेसांवरे 
              के सामने शशी रूपी प्रियतमा भी शोभायमान है,जिस प्रकार नभ चाँद की किरणों को 
              समेटे हुवे है उसी प्रकार पिया प्रेयषी के प्रेम को कसे हुवे है । 
               
               
           बिसुरइ रुझनइ लछनउ लाखा । लुबुधहिं बोधइ लखन सलाका ।।
           हिरु हिरकन भुज सिरू हनु टेके । लूक लूक लोचन लेखिहिं देखे ।।
           झगड़ती, दुखी होती जलते हुवे ऐसे देख रहीं है मानो ललचाते हुवे प्रेमी से कह रही 
               हो कि यह लक्षमण रेखा है जिसे पार करना कठिन है, ( पिया) कटि को सटाते अपनी 
               ठुड्डी ( प्रिया) के कंधे पर टेक जलते हुवे लोचन को छुपते से छुते व देखते हैं । 

           छुअत खटिकहि पुछत सकुचाए । कनन खगन भए बहुल बितताए ।।
           करक खिसक कहि हिय भरि आई  । पिया न जानिब पिअर पिराई ।।
            कान के छिद्र को छूते संकोच कर पुछते है की कान की चुभन अधिक टीस दे रही है क्या 
                तब प्रिया हाथ हटा क्रोधपूर्ण दूर हटते हुवे भरे ह्रदय से कहती हैं पिया न तो प्रेम पहचानते 
                है न ही पीड़ा ।

               पलक पताका लड़क लड़ाका चटपट बत बढ़चढ़ चढ़ी ।
           छिटक छिटक छट लहर लहट लट जनु झटफुटत फुलझड़ी  ।।
           नयन लगाईं के मेल मिलाई के काहे कर धर कानन कड़ी ।
           ललित लोचनि लवनय ललौहनी लखी लड़ी लर्झरी ।।
           हे मृग लोचनी तुम छोटी सी बात को  बड़ा रही हो एवं इस तरह 
               से दूर हट रही हो मानो फुलझड़ियों से चिंगारी निकल रही हों 
               पिया तुमने  नयन मिला किसलिए इतनी  कस के बुँदे खीची??
               हे सुनयना तुम्हारी आँखों का यह क्रोध बहुंत ही आनंदमयी है ।

               खींच खीच बिनयन भींच  बाहु प्रलंब बिचलन  ।
           जनु कार्तिक के घन घिंच बीच बिजुरी बिरचन ।।
              
               मान मनुहार करते पिया प्रिया को खिंच कर बाहु में भींच लेते हैं 
               वह इस प्रकार विचलित हो रहीं है मानो कार्तिक में बादलों के 
               मध्य बिजली ही रूठी हुई हैं ।


              रविवार, 28 अक्टूबर, 2012                                                              

           छिनु छिनु छितिजहि छबि छहराई । छलनि डार के छाज उराई ।।
           बिनतहिं बत कहिं बारहिं बारे । बाहु जोरंत जय जोहारे ।।
           छण में ही छितिज छन-छन करती जो विद्युत की चमकती शोभा बिखरी हुई है 
               वह मेरी छोटी भूल से उपजी तुम्हारी क्रोध की चिंगारी का स्वरूप है विनय पूर्वक 
               वचन कहते कहते अंत में हाथ जोड़ चरण पकड़ने को हुवे तब : --

           नहिं नहिं अस बस अरच न करहीं । मृदु मन तन तव रस रूप सकलहिं ।।
           नयन अंजनउ  दरस तिहारे । तमि धन दर्पन तवहिं अधारे ।।
          ( प्रिया कहती है ) नहीं नहीं बस ऐसे अर्चना मत कीजिये मेरा यह कोमल मन, तन यह रूप 
               यह प्रेम रस सारे तुम्हारे ही है यह काले नयन तुम्हारे ही दर्शन स्वरूप है मल बिन दर्पण 
               अन्धेरा बिना चाँद का अस्तित्व नहीं उसी प्रकार हरि बिन हरिप्रिया का भी कोई आधार 
                नहीं ।
                
               लसित रसित रतिरस रसवंता । बलित जुबनित  सरित हरि रंता ।।
           कनपत करजहिं करखन कोरे । कित कतिक कहब का का मोरे ।।
           क्रीडाशील प्रसन्न, आनंदित हो प्रेम में मगन रस में सराबोर प्रियतम कान की बूंदों 
              को छू उन्मादपूर्वक जोड़ अंगों को उँगलियों से स्पर्श कर कहते हैं कहो तो कहाँ, 
              कितने व कौन-कौन  से ( अंग) मेरे हैं ।

              दसन बसन धन दूर धचकाहिं । धत दुतकर कहि कोरहिं काही ।।
          मद भरू बिहबल मोह मुकुलिता । मतिभरम गति हीनहु मन मिता ।। 
           मदोन्मत्त अधमुँदी काम के वश पिया से प्रिया मुस्कराती  हुई साथ ही दूर (हल्के से )
              धकियाती धत धत कहती हैं तुम  ऐसे क्यूँ छू रहे हो ये मन मीत की बुद्धि, निर्बुद्धि  
              हो, बुद्धू हो गए हैं ।

             मदन कंटक आतुर मधुर परसहिं मर्म स्थान ।
          लचक मचक नभ चमस धुर मर मर जिअत जान ।। 
          प्रेम-अनुराग को आलिंगन कर कामदेव के वश प्रिय कोमल अंगो को 
             स्पर्श करते है जिस कारण प्रिया रूपी चाँद नभ में अपनी धूरी पर लचकती 
             चाल से प्राण हरने वाली मधुर ध्वनी उत्पन्न हो रही है ।

             मंगलवार, 30 अक्टूबर, 2012                                                                 

          बहि बहु पहर भय कहि पियाही । फिरि बहु अब गह मुर दर दाहिनाहिं ।।
          कमलिन बंधइ मनोहर जोरी । बहर बहल बन बहहिं बहोरी ।।
          बहुत अन्धेरा होने पर प्रियाने प्रियसे कहा -- हेप्रिय बहुत घूम चुके अब हमारा घर लौटना 
          उपयुक्त होगा । बंधा हुआ यह कमलों का सुन्दर जोड़ा प्रसन्न करने वाले वन से मन बहला 
              लौट चला 

              अधंगन्हिं गह अध बर बहियाँ । बहहिं बैसार बहनइ सैंया ।।
           बसह बधहि धर बैस अधारिहिं । बाहि बाहित बह बहनु बाहिहिं ।।
           आधी बाहों के बीच अर्धांगनी को भर सैंया ने उठा कर वाहन में बैठा दिया । ( और )
              बैल की रस्सी को नियंत्रित कर गाड़ीवां के बैठने के स्थान पर विराज वहन करने 
              वाले वाहन को ले वापस लौट चले ।

              जिमि जिमि झल चल जल जुन्हैया । तिमि तिमि तुर दुर धुर धुरैया ।।
           धूलि ध्वज पटल पिछु पिछारे । थिर तर धुरीन  निअर दुआरे ।।
           जैसे जैसे ज्योतिर्मय रात ज्योति झलकर जलती चलती जा रही थी । वैसे वैसे गाड़ीवान 
               भी गाढ़ी के पहिये को तेज चला जा रहा था । धुल रूपी बादलों को पीछे छोड़ पिया प्रधान 
               ने गाडी ( घर के ) द्वार के पास किनारे पर लाकर रोकी ।

               पौर पौर पुर पहुँचहिं बेला । भव भवन चरन नतैत भेला ।।
               सरन गमन गह सयनागारे । धारागह फुहरहिं निस्तारे ।।  
            नगर, घरद्वार पर समयपूर्वक पहुँच गृह-प्रवेश कर नाते दारों से भेंट किया ।
                चरण विश्राम ग्रहण  हेतु शयन कक्ष की और प्रस्थान किये । ( वहां )
                स्नानागार गार में फुहारों के निचे स्नान कर तरोताजा हुवे ।

                भारइ भरू भुज दल भरन पूँछइ भए भूखन भक्ष ।
               भावुक भाव गति गहन मुसुकहिं गहिं भक्षन कक्ष ।। 
            प्रिय को बाहू में भर कर जब प्रिया ने पुछाकी- भूख लगी है??
            उनके रुवांसे से भावों को समझ कर मुस्कराती हुई 
               भोजन कक्ष की ओर( भोजन लाने हेतु ) बढ़ चली ।      

              बुधवार, 31 अक्तूबर, 2012                                                                        

           तुरतहि गवनइ भवन भंडारा । हरिहुँत हथ लइ अवन अहारा ।।
           कोर कोर कर  कवल   करारे । प्रीति  बरध  धर अधर कसारे  ।।
           ( प्रिया) तत्काल रसोई गृह गईं एवं प्रीतम हेतु भोजन ले आई । एवं प्रेमपूरित  भोजन के 
               छोटे-छोटे, कौर कर प्रीतम के मुख पर रखती गईं ।।

               प्रियबर बचन भव बदनु भाषे । तव परसब यब रस रस रासे ।।
            तुम्हउ बदनउ बहुहु लबारी । भुक्ति भुखन तव भुगतहु भारी ।।
            प्रियतम के मुख से यह सुन्दर वचन बोले ।  ( हे प्रियतमा ) तुम्हारी उँगलियों के स्पर्श से भोजन
                सरस व स्वादिष्ट हो गया । (प्रियतमा बोली ) तुम्हारे बोल अत्यधिक ही प्रशंसा पूर्ण हैं । तुमने भोजन 
                हेतु भूख को अत्यधिक सहा (अत: भोजन स्वाद पूर्ण प्रतीत हो रहा है) ।

               पेट पुजन कर अगन भुझाई । कर धर पग भर छति पर आहीं ।।
           मंजु मुख गवनि चितब सुहाई । लज सज सजन छांह न छुहाई ।।
           भोजन कर तृप्त हो कर (हरि संग प्रिया) हाथ पकड़ चलकर छत पर आए । मनोहर मुखाकृति 
               धर हंसगमनी ( हर के) नयन व ह्रदय को सुहावनी प्रतीत हो रही है ।  लज्ज से सजी (सजनी)
               सजन पास आने नहीं दे रहीं ।

               भर भुजान्तर धर दुइ हाथा । सइ सइ सक्तहि सयनहिं साथा ।।
           खतमाल गाल केश घनेरे । आजानु बाहु भरु भय घेरे ।।
            प्रीतम ने प्रिया को दोनों हाथों से से बाहों में उठाकर सहसयन हेतु आलिंगन किया ।
                काले बादलों जैसे घने कुंतल घुटने व कंधे सहित बांह भरे एवं पिया पर ही घिर गए  ।

                 संकेत निकेतन नयन संक्रम क्रमनक क्रमन ।
             संकुलित कुल झुलहि सुमन सकुचइ संगहिं सयन  ।।
              संगम सैया पर सह संगम हेतु हर ने प्रिया को आँखों से संगम अभिप्राय संसूचित
                  कर सैया पर विराजित हुवे । कलियों से आच्छादित सुमन झूले पर सजनी सयन हेतु 
                  संकोचपूर्वक सिमटी हुई है ।

                 श्री कंठ निकेतन माल राग रस रवन रंग ।
             शुभग दर्शन शयन काल भय अंगारे अंग ।।
             हरिप्रिया ,हरि के गले में कमल की माला सी सुशोभित हो रहीं हैं अनुराग पूरित 
                 काम क्रीडा रसमग्न है शयन सैया पर भाग्य प्रदान करने वाले श्री के अंग अंगारों
                 के सदृश शोभायमान हैं ।

                बिभावर मुख कान्त कर  सजी सुहागन रैन ।
              बिभूति भूषन भेष धर मंझन मंजुल नैन ।।
              चाँद तारों से प्रज्वलित ज्योत्सना पूर्ण सुहाग की रात सजी हुई है ।
                   श्री,अनुराग पूर्ण आभूषण एवं वस्त्र धारण किये श्रीधर के नयनों में विराजमान हैं  ।।       

      
            सोमवार, 29 अक्टूबर, 2012                                                                

           कमलिन नाभ बन नयन जोरी । निमीलन मगन कमनइ कोरी ।
           नौ तरन तरुन नवल अनंगा । पूर निभानन जुबनइ रंगा ।।
           कमल समूह से सुसज्जित वन के मध्य कमल की पँखुड़ी-सी आँखों वाले हरि 
              हरिप्रिया के नयन-चार हुवे । सुन्दर, चाहने योग्य कामांगों के आलिंगन (हरि)
              चेतना शुन्य हो इन नयनों में उतर से गए ।  पूर्ण चन्द्रमा के समान तेजयुक्त 
              मुख नयन में रंग कर मुग्ध करने वाली नव यौवना के नयन-झील में 
              नौकायन से तैरने लगे ।  

             अवतमस तरन तरित तर ताहि । अवन मन बद्ध अवनिहि धाही ।।
           नयन पदम् पद पथहु बिहारे । निकुंज करि कर कुंचन कारे ।।
           अल्पन्धकार में उतरते उतरते हरि झील के किनारे पहुंच ह्रदय रूपी धरती पर 
               छायादार पथ पर पग रख दिए । कमल जैसे कोमल पग से विहार 
               करते हरि को ( हरिप्रिया ने ) नयनो के उद्यान में कुण्डी लगा कर बंद कर लिया ।

              नयन निमित मित चरनहु नाई । नमत नमत नत निमिखहि झुकाइ ।।
           मुखमंडल कार्मुक कामुक किमि । जुबनइ जामि  मीर जलजल जिमि ।।
            नयनों में मनमीत के चरण चिन्हों को प्रणाम किया । स्वामी को नमन करते हुवे झुके बादल 
               स्वरूप पलकें भी झुक गईं । झुका हुवा मुखड़ा  व् झुकी भवें कासी कामुक लग रही हैं जैसे कि 
               तरुणई रात्रि में जलता हुवा  तरुण चाँद समुद्र के जल में  शीतलता प्राप्ति हेतु व्याकुल हो ।
              सजन बदन रस परसहिं माथा । छिनु छिनु निछिनु  नयन पट नाथा ।।
          मुख कांति कमल कपोल रागा । अभिरति रत पत अधर परागा ।।
            
              पिया का अधर अमृत ललाट को स्पर्श करने लगा । क्षण भर में मोदपूर्ण पिया ने पलकों 
              को चुम्बित कर दिया । कमल से खिले मुखड़े पर सौंदर्यपूर्ण लाली शोभाय मान हो रही है  
           प्रेमलगन में सलग्न पिया के अधरों का पुष्प पराग प्रिया के गालों पर विराजमान हो गया ।

           अपरंच पर भरू भव अधारे । उत उतर इत हरि हनु अपारे ।
         तदनंतर अधराधर धारे । अधरोपर पर अधर पधारे ।।
          लालिमा युक्त दुसरे गाल पर भी पिया का अधिकार हो गया ।  वहां से उतर कर अर्थात 
            नयन रूपी तरनी से उतर कर हरि गहरे सागर के किनारे ठुड्डी के पास पहुँच गए ।
            तात पशचात सागर रूपी निचले अधर को धारण कर ऊपरी अधर पर अपने अधर 
            रख दिए ।

            अधर अधर अधरोत्तर अधिवीत वसित वास ।
         मधु पर्क पिया पयस कर अधृत धीति धर सांस ।।
         नीचे-ऊपर, अधरों से अधर लिपटे परस्पर स्वसन सुगंधों में बसे 
         अनियंत्रित साँसों के मध्य हरि एवं हरिप्रिया अधरों के अमृत का रस पान कर है ।

            अभिषंजन संगी संग अभिरति रूप रूचि राम ।
         लक्षित लसित लुलित लल अंग ललित ललामिन काम ।।
          अनुराग पूर्ण इस आलिंगन में सजनी-सजन अति मनोहर 
             रूप में दिखाई दे रहें है कामके अभिभूत प्रिय की कामक्रीडा 
             की लालसा लिपटे अंगों के कारण उद्दीप्तमान है ।
              
          गुरूवार, 01 नवम्बर, 2012                                                                      

          तरि तरहरि हर अधर उतरंगि । कंप कंध कर लिंगन संगी ।।
          का भइ पूछहिं सईं कनियाँहि । नट निटिल नहिं कहि कछु नाही ।।
          पिया के अधरों से निचे उतर हांफती, कांपती प्रिया तैरती हुई सी कंधों से लिपट गई ।
             गोद में लिपटी प्रिया से पिया ने पूछा -- क्या हुवा प्रिया ने केवल ना में सर हिला दिया 
             मुख से कुछ नहीं कहा ।

             सुमन सुभिरक सम रहु साखा ।  लछ यतवत सथ हथ यत्रु राखा ।।
          सहुँ करजहु कर केश कगारे ।  सुधाधर अधर पुनर पधारे ।।
           कंठ में करमाला कर हरि के साथ हरिप्रिया वैसे ही शोभित है जैसे पलाश की शाखाओं 
              पर पलाश का पुष्प सुसज्जित रहता है । अपने सम्मुख कर बालों को उँगलियों से 
              किनारे कर हरी ने पुन: सुधा धारण करने वाले अधरों पर अधर रख दिए ।

             अधर पत पतत गवनउ देसा । तर धर छर भए अध भुज भेसा ।।        
          सरि सरि सइनइ पतंग अंगा । सरीर सरसिज सरस सुरंगा ।।
           पिया  अधर रूपी गगन से उतरे अधर के निचे आधारित कंठ पर विराजे पिया के 
              इस प्रकार निचे आने से स्वेदयुक्त प्रिया के बाहु का वस्त्र धरा पर फिसल गया ।
              सरिता के समान सैया पर रसयुक्त लाल कमल रूपी सरीर जिसके अंग अंग कमल 
              पंखुड़ी के  सदृश्य हैं  सैया पर पिया के साथ माला के सदृश्य लिपटे हुवे हैं 

              अधबर बिकसित घट जल मुंदा । पत्ति पत अगम सुगम सुमुंदा ।।
           अलि अस कमलिन कोमल पाँखा । रदच्छद पद पदम् पथ राखा ।।
            मध्य मार्ग जो अर्धविकसित, आधा ढंका आधा भरा कोमल कमल की पंखुड़ी पर जैसे 
               भंवरा हो , सरीर की कोमल पत्तीरूपी पहाड़ीअंग अर्थात वक्षस्थल पर गीले किन्तु सुगम पथ पर 
               वैसे ही पिया के अधर रूपी पग चलते चले गए । 

              तदनंतर धर तल दल दलिता । बन सोभन तन बनितहिं बलिता ।।
           उसके पश्चात प्रिया के कमल रूपी सरीर को घेरकर अधर रूपी पदों से पत्ती रूपी अंगों को
               पिया रौंदते चले ।

              पत्ति पद्व पथ तर उत्पल थरथर तीर तरंग ।
          दल कपाट दलत पद तल दलकहि पनपहिं अंग ।। 
              पैदल चलने वाले पिया के अधर रूपी पग कमल रूपी सरीर के अंगों पर उतरते चले गए 
              सरीर रूपी कमल की सभी पत्तिया अर्थात सभी अंग, सरिता रूपी सैया के किनारे उठी तरंगों 
              से अर्थात सुमन झूले के हिलने डुलने से कापने लगते हैं । इस प्रकार पिया के होटों के चुम्बनों के 
              दबाव से उपरी अंग  विकसित होने लगे  अर्थात अधो अंग निर्वस्त्र हो गए ।

             शुक्रवार, 02 नवम्बर, 2012                                                                           

          लज तज रत रति बर प्रिय पर छाई । कमन सुमन सर निकर निकाई ।।   
             उरु क्रम पथ पद धर अधमाँगा । काशि कशिपु कर कसकहिं अंगा ।।
          लज्जा त्याग रात( प्रिया) प्रेमपाश में आबद्ध काम देव की पत्नी का रूप धर रति-आनंद 
             का वर्द्धनय उपहार देने हेतु प्रस्तुत हुई । मदन मनोहर ने भी कामस्वरूप पुष्परूपी तीर 
             छोड़े । (वहां) लम्बे डग भरने वाले पिया ने अधर रूपी चरण शरीर के निचले हिस्से पर 
             रखे । (  प्रिया ने) अंगों के कसकने के कारणवश तकिये को अपनी मुट्ठी में कसते हुवे 
             सिसकने  लगी ।
            

             कोमल कमन कमल दल देही । रमन मन रमित सनित सनेही ।।
          रतिबल रलमल रल्लक ढांके । नय अंग अंकु नाभि नहाके ।।
              सुन्दर, मृदु ,पत्र स्वरूपी कामुक अंगों सी कमल रूपी देह  पिया के मन को 
              मंत्र मुग्ध कर उन्मादपूर्वक रतिक्रीड़ा हेतु सलग्न, आनंदमग्न है  ।  प्रेमपूर्ण 
              रतिवत परस्पर लिपटे धक्कम धक्का करते ऊनी वस्त्र से ढंके हैं ।  गमनशील 
              नायक ने नाभि चिन्ह को पार किया ।

              सुदूर दिसि दव देहि देसा । कट कहिं कछनहिं कटि प्रदेसा ।।
           चौ पत पथ मुख मेखहि फेरा । चक चहु ओर डोर धर घेरा ।।
           क्रीड़ाशील नायक आगे निकला उसे सुन्दर पहाड़ी किनारों से युक्त सुन्दर स्थान 
               के दर्शन हुवे । यह भूमि चारो दिशा से डोर में बंधे वस्त्र से आच्छादित है अर्थात 
               पिया प्रेमपूर्वक नाभि के अंतस घाघरे से घिरे कमर को अधरों से चुम्बित कर 
               रहें हैं ।

               अधभर भरु धर बसन्ह सारे  । एक एक कर भर अध तर तारे ।।     
            बसन सुमन जों उर उरु धारे । उंचनी नीचु सबहिं उरारे ।।
            आधे तन को बाहु में भर कर पिया ने सारे बसन खिंच निचे उतार दिए ।
                 जो वस्त्र कमल पुष्प रूपी देह ने ऊपर कास कर बंधे वक्ष के व निचे  कमर में 
                 धारित समस्त वस्त्र भूमि पर फैले हुवे हैं ।

                चरन कमल दल चल चलबाँका । जलज जल दुर्ग दरसनु झांका ।।
                 पुष्प पत पथ पुर पेशल पेखा । चौक चौंक चक चौअन देखा ।। 
              उसके पश्चात पिया ने रति भवन देखा ।

                 अलि बल्लभ पत यौबनस भेस भर भूषण बस ।
             अर्क बल्लभ अरधन अस निरवसेश बसनि कस ।।
             वस्त्र व् आभूषणो के वशीभूत लाल कमल रूपी शरीर के कोमल नव कोपल रूपी अंगों 
                 में प्रवेश कर स्वेद कन रूपी रस को ऐसे ग्रहण किया की वह निरवस्त्र हो पिया से लिपट गए ।
       
            शनिवार, 03 नवम्बर, 2012  नौका-बिहार                                                                    

            अंब भव बहनु बिहरन साई । पंख पतंगहिं अंग लगाई ।।
            उरस धरि उरसिरुह अस पासा । प्रभा प्रभाकर भुज जस कासा ।।
             कमल रूपी देह की झील रूपी रतिभवन में जलक्रीडा अर्थात कामक्रीड़ा करने हेतु 
                 स्वामी ने प्रिया के पंखुड़ी रूपी अंगों को आलिंगन कर ह्रदय में धारण कर 
                ऐसे बांधा  जैसे की सूर्य की बाहु में किरणों की कांति हो ।
                   
                 अस्तंगत गत अस तन रंगा । अस्त अहि अंग कंचनजंघा ।।
             कारू कलश कर मंडल बृंता ।  कंपहिं कोपल रल कर रंता ।।
             परस्पर सम्मिलित तन ऐसे रंग गया जैसे कि सूर्य के अंग में कंचनजंघा   
                  पहाडी रंग रही हो  । कम्पायमान पल्लव रूपी कोमल अंग प्रियतम के हाथों 
                   में हैं मानो  कुम्भकार कुम्भ को हाथों से आकृति प्रदान कर रहा हो ।  
                   
                 केलि करज कर किलबर कोरे । रसमस भव बन बहनहि दौरे ।
            रूचि कर कारुज रच रुचिराई । रस तेजस नस रसित कसाई ।
            जलक्रीडा करने हेतु पिया की अगुली रूपी पतवार जब अंगों पर चलने लगे । 
                अपनी कला में सुन्दरता उत्पन्न करने हेतु शिल्पकार के हाथों की नसेन तन गईं हैं ।।

                लहरन बहरन लहर लहराई  । रमक रमक रम कमलिन काई  ।।
            हर्ष गर्भ कर चल दोह धाए । नाद बर्धन बिहबल अतिसाए ।।
             लहरों का आनंद व सुख प्राप्त करने हेतु जब लहरे लहराने लगी कमलिन काया में 
                 भी ( खिलन हेतु )आनंद स्थापित होने लगा ।  प्रसन्नता पूर्वक इस मिलन पर 
                 पिया ने काम रूपी लहरे उत्पन्न करी आनंदतिरेक हो ( जल तरंग रूपी ) राग 
                 का वर्धित हो विभोर हो उठे ।

                 स्पर्शेंद्रियन शुद्धा लाजन रसिक सुख संचारिता ।
             स्नेहक बंधित रसन पयसित अंक सार प्रसारिता ।।
             स्तबक काचित कित सयन सरित स्पंद नंदित दोलिता ।
             स्मर दीपन प्रियषी भवन स्तम्भ ध्वजन धारिता ।। 
              स्पर्श इन्द्रियों को सपर्श कर भौरा के सुख संचारण के कारण पुष्प लाजमय है
                   अंगों से द्रव प्रसारित करने वाले प्रेमी क स्नेह बंधे अधर से रसपान कर रहें हैं 
                   पुष्प समूहों से सयन सरिता कम्पित हो दोल दोल के आनंद प्रदान कर रहीं है 
                    प्रियतम प्रिया के मनमंदिर में काम उद्दीपन कर रहें हैं ।
                  
                द्रोण थर तर धर तरंग कलियन कल कल कोर ।

             कल कंठ कूनिक बलंग करनन कर्निक रोर ।।
                 कमल देहि थर रूपी त्वचा पर जब पिया की अंगुली रूपी पतवार चलने लगी 
                 नइ पत्तियों के जल में प्रसारित होने के कारण कमल कंठ से मीठी सी कितु अस्पष्ट
                 सुर सुनाई देने लगे ।।     
                 
                 रविवार, 04 नवम्बर, 2012                                                                       

             पुहुप कसक धनु रोचन राखा  । रक्त रचन सर सेखर साका ।।
             धर पुष्कर मुख बिजन साइनी । पुहुप प्रस्तरनउ पुष्करिनी ।।
              कामदेव ने नागकेसर स्वरूप कामंगों की नस रूपी धनुष को कास लिया है 
                   हरिप्रिया भी पूँकेसर को धारण करने हेतु जलाशय रूपी सैय्या  में शयनित है  

             भग काम धन नंदन नासा । बिच बिछ बिजनहु बापन बासा ।।
             रूपन रुहन  रति साधन संगा । चले मदन आयुध धर अंगा ।।
             साधान्सम्पर्क के अभिलाषी पिया पुष्प जनेंद्रियों बीज रोपण हेतु निवास रत है 
             बिज रोपने के शाधन अंगों के साथ कामदेव भी रति आरोहण हेतु प्रस्तुत है ।।

             लीलाभरन भरभरन भरंडा । दुर्मद मदन कर समर झंडा ।।
             काम,क्रीडा, विलास विहार आदि के समस्त आभूषणों को धारण कर स्वामी 
                  उत्साहपूर्वक अनुराग मय आलिंगन कर प्रणय संपर्क हेतु ज्योत्सना मयी 
                  रात्रि में प्रेमप्रमत्त हैं ।

                  पुष्पोदगमन असार प्रस्तरण अग्रज धरण धायिनी ।
               पुष्कर बीजन कोष वापन पुष्प पुष्कल पुष्करिणी ।।
               पुष्कर नयन बीज निर्वापन पुष्पापीड अंधया ।
               पुष्करावर्तन पुष्पित करन पुष्टि काम मति वर्धया ।।
               अन्य पुष्पों के उदगमन हेतु रज रूपी पुष्पवर्षा धारण करने हेतु अग्रसर है ।
                     सरोवर भी बीज धारण करने हेतु अनुराग से परिपूर्ण है ।।
                      कमल जैसे नेत्र वाले भंवरे रूपी प्रियतम बीज बोने हेतु रजमाल लिए हुवे है ।
                      मेघ रूपी उत्तेजना पुष्प को खिलाने के लिए काम अग्नि को पोषित कर रही है ।।       
                 
                 मधु राज रिपु रज रूप धर पत पथ  मध्य स्थान ।
                 मदन भवन तुर तरन तर पुष्प धनुर्धर तान ।।
                  प्रियतम भौरे का रूप एवं राज धारण कर पुष्प पत्र के मध्य स्थान में स्थित है ।
                        रति भवन  में रजबाण उतारने हेतु कामदेव भी धुष रूपी नस तान आतुरित हैं ।।  
             
                  रविवार, 05 नवम्बर, 2012                                                                    

                   अलि अलिंगनहि अति अनुरागा । रंगंगहु धर पुहुप परागा ।।
                    पुहुपहु भूषित पुर प्रस्तारा । पेशल पट पथ पुट पैठारा ।।
                     भ्रमर ने ( पुष्प ) को अनुराग पूर्वक आलिंगन कर पुष्प पराग को क्रीडांग में 
                            स्थापित कर पुष्पों से सुसज्जित सदन सायिका में पुष्पके कोमल केसर अंगों में 
                             प्रवेश किया ।

                    प्रान धन धरन जीबन धारे । सभृत सूत समाहित सारे ।।
                    समा  सार करि पीर प्रहारे । फर फर फुरबर भरू धर हारे ।।
                    प्रियतम प्यारे भ्रमर स्वरूप प्राण के स्थापन हेतु  समस्त जीवन सूत्रों को समाहित कर 
                           फूलों से युक्त माला रूपी काम तीरों को ससंयुक्त बलपूर्ण पीड़ामयी प्रहार करने लगे ।

                    रति किलबत कर पालउ रंगा । रलन रयन रय रवन प्रसंगा ।।
                    बलसुम सुमन सर सीस साखा । बलकन अलि अलि बल्लभ आका ।।
                     प्रिया रूपी रति के अंग रूपी पंखुड़ी  रंगमिल कर ससंयुक्त प्रेममग्न हो  ध्वनित हो उठी 
                     वंश विस्तारक राज को क्रीडा अंगों में धरे भ्रमर, कामुक पुष्प कमल के सह उमंग से परिपूर्ण हैं 

                    रज रच रंगन अंग अकासा । प्रास प्राग सिर सिखर बिकासा ।
                    बानधि गोचहि बरसन जीता । सर सर सार सरि सेज सरिता ।।
                           चरम उत्कर्ष पर पहुँच पिया उत्सित क्रीडा अंग रूपी कामधनुष से पराग रूपी तीरों की 
                            सरिता रूपी सेज पर सार सार कर प्रहार पूर्वक वर्षा करने लगे  
                             
                            पुहुप लिछ लगन लछ हन भेदा । प्रान दान दय बेदनु बेदा ।। 
                            फरफर फुरहर फूल फुहारे । फुल डोल धर भगहि उतारे  ।। 
                    (इस प्रकार)  प्रियतम रूपी भ्रमर ने अनुराग पूर्ण काम बानों से वेदना पूर्ण भेदन कर 
                           जल फुहार कर प्राण दान स्वरूप पुष्प-गुच्छ प्रिया को भेंट किये । 
                           
                    
                    प्रांत दुर्ग धरनि पथ धार अली अलिबल्लभ अलिंद ।
                    बाहु कुंथ तरन प्रसार बीरोपम  बिध बिंद ।। 
                     कमल दल रूपी देह स्वरूप  देश के अंतिम भाग में स्थित किले के कमल रूपी देह द्वार 
                           पर भ्रमण करते हुवे वीर भ्रमर  पल्लव रूपी अंगों के ताल में अपनी लम्बी भुजाओं से तैरते 
                            रज रूपी बानों से भेद दिया ।

                            मंगलवार, 06 नवम्बर, 2012                                                                   
                     
                    प्रिय पत प्रियतम प्राण पियारे । फरफरीक कर भर रति कारे ।
                    भुज दंड दल कोटर कासे । कंधनु सिरु धरे भरे साँसे ।।
                    प्राणों से प्यारे, स्वामी, पति प्रियतम  ने फैली हुई उँगलियों के साथ हथेली को हाथों में भर
                            काम क्रीडा संपन्न की । अपने हाथों सहित भुजाओं में आलिंगन कर कन्धों पर सिर रख 
                            हांफने लगे ।
  
                    गवने सहचर सुख संभोगा । भाव भूति भर रस रस जोगा ।
                    ससी सरिस सहुँ सस्मित सहाए ।  रच बस सयनहुँ छनिक सहताए ।।
                     ससबद्ध सहयोग पूर्ण संयोजित हो  सहगमन कर संयुग्म ने रतिपूरित सुख - आनन्द प्राप्त किया ।
                            चन्द्रमा के जैसी मुस्कान लिए सजनी सामने है । संग मिलाप के इस क्षण में शैथिल्य  है ।

                              रलनु बिलग भइ लपटहिं छाती । जल जल बुझि जनु दीपक बाती ।।
                      सहसय सयत सय रिति रतिया । सयत समन सम सयथहिं सथियाँ ।।
                      मेल-मिलाप से अलग हो (प्रिया प्रियतम की ) छाती से लिपट गईं । (दोनों ) जल जलकर 
                              भुझ गए जैसे की दीपक-बाती हों । शरद का चाँद के साथ सोते रात रिक्त हो रही है ।चाँद के 
                              समान ही दोनों साथी शान्तिपूर्वक सोये हुवे हैं  ।

                      सय सीत सह्स रोमन अवली । भागमती भित मुर्धन मउलि ।।
                      नीदउँ मगन सयन सुठि सोंहें । मनहुँ एकहुँ पद दुनबन दोहे ।।
                       प्राण समा, प्राणपति के प्राणों में समाईं शरद ऋतु में शयनित  ऊनी वस्त्र से आच्छादित हैं 
                               नींद में दुबे सोते सुन्दर दिख रहें हैं मानों दोहे के दो पद परस्पर मिल कर एक हो गए हों ।

        
                              मंद करन कांति गवन  गवन मंद समीरण  ।
                       मद मुकुलित नयनी नयन मंदसान के शरण  ।।
                               शनै:शनै: चन्द्रमा अग्नि अर्थात सूर्य के शरण में जा रहा है, शनै: शनै: प्राण वायु 
                               बह रही है एवं अधमुन्दित नयन युगल नींद के शरणागत है ।  

                      बुधवार, 07 नवम्बर, 2012                                                                          

                      रसै रसै रत रिस भइ अंता । रतिभर रतिगर भइ रतिवंता ।।
                      पदमन दर्पन कन कन दरसे । पदम अंतर तर पनपन परसे ।।
                       शनै: शनै : रात्रि रिक्त होकर  समाप्त हो रही है थोड़ा सा सुरूप सवेरा होता दिखाई दे रहां है ।
                               ताल रूपी दर्पण में जल कण दर्शित हो रहें हैं ,मानो कमल के ह्रदय में उतरकर विकसित 
                               करने हेतु स्पर्शित हों ।
                        भास भास भए भवनउ भोरे । बिरतत रत रतनिधि नीड रोरे ।।
                      नींदउ भंजन नयन निथारे । बीथि बीथि बिज बियत बिथारे ।।
                      भवन प्रकाशित हुवे, मुर्गे बोलने लगे, भोर हुई । रात के व्यतित होने पर पंछी घोसलें में 
                              कलरव करने लगे । नीद खुली आँखों को मसलते हुवे अम्बर पथ पर पंक्तियों में पंख 
                              फैला दिए ( नए लक्ष्य हेतु )

                     रय रयरथ धरि रविरय राजे । प्रियकर सुन्दर सारथि साजे ।।
                     रयनि रयन रय रवनहहिं धाए । रतन प्रभ बाहु गर्भ गह आए ।।
                      धूल रूपी गति वाहित को धारण कर सूरज राजा विराजमान हुवे । लाल कमल के सदृश्य 
                              किरण रूपी सारथी भी सज गए । रजनी के सह सयुक्त हो अर्थात अंधेर-सवेर में रवि राजा 
                             ( पंछियों के कलरव से युक्त) शब्द करते चले । रत्न के सामान दैदीपमान विष्णु अर्थात विश्व 
                              व विष्णु प्रिया अर्थात धरती के घर आए ।

                     रचित रतन करि भूषन माला । परखनु  अचलउ राजित साला ।।
                     सहस चित चरनउ नयन नवाए । सहस सस बदनउ गुनगन गाए ।।

                      कुबेर के द्वारा गुंथी रत्नों की खान में रत्नों के ढेर में से परखे माणिक जड़ी (ओस रूपी )माला 
                            हाथ में लेकर हजार चरण वाले भगवान श्री विष्णु को सूर्य ने  प्रणाम कर दशतिदश प्रकार 
                            से दशतिदश मुख से दशातिदश गुणों का गुण गान किया ।  
                             
                     हे जगती जगत धारी हे जगती जग जोत ।
                     हे जगत कर्ता कारी वन्दे चरन स्त्रोत  ।। 
                     हे पृथ्वी सकल विश्व के धारण कर्ता हे पृथ्वी वे संसार के आलोक ।
                            हे सृष्टि के कारण स्वरूप परमेश्वर  तुम्हारे चरण की स्तुति- वन्दन करता हूँ ।

                    गुरूवार, 08 नवम्बर, 2012                                                                        

                    हे जगमोहन छबि जग मोही । बिस्व रूपी तव  रूप अति सोही ।
                    बिस्वथा  मनस मय बिस्वासे । बिराट अवनउ अबसु अबासे  ।।
                    विश्व को मोहित करने वाले हे ! जगमोहन हे ! विश्व रूपी विबीन्न रूपों में प्रकट हो 
                           तुम अत्यधिक सुहाने प्रतीत होते हो । हे ! सर्व व्यापी विश्व स्वरूप सबके मन मानस 
                            विश्वास पुर्णिता, सब पर शासन करने वाले सब पर उपकार करने वाले सर्वज्ञ विश्व के 
                            आधार ईश्वर ।    
                 
                     जग पुजित जेहिं बंदउँ सारे । बिस्व बिभावन बिदित बिसारे ।।
                    जै जग जनयन जन हित कारे । धरन भरन  भरू धरनी धारे ।।
                    सर्वत्र  पूज्यनीय जिसकी वन्दना संसार भर में होती है हे ! विश्व की रचाना करने वाले 
                           तुम्हारी ख्याति तो सर्वत्र प्रसारित है । विश्व का धारण-पोषण करने वाले धरणी को 
                           धारण करने वाले समस्त मानव जाति हित करने वाले लाभ करने धरणी पति की 
                            जय हो !  
              
                     बिस्व अधिपत सहाहु स्वामि । जग कारक  करि अंतर जामी ।
                    बेद गुहयउ कारूक दल दृष्टा । बेद बिद सारु जै जग कृष्टा ।।
                     हे ! विश्व के राजन हे ! धरनिस्वामी ! हे! अन्तर्यामी प्रभु हे! बिष्णु हे ! चतुश्पत रूपी 
                            ब्रम्हस्वरूप चतुर्भुज वेदों के सार स्वरूप  सबके प्रति सद्भाव रखने वाले वेदज्ञ तुम्हारी जय हो !  


                    बंदउँ जग गुरु गोचर चरना । सख सातम सहि सकल सृज करना ।।
                    बिस्वनयन कहि करि कल्याना ।  कूट करम करि केतु बखाना ।।
                     समस्त विश्व के पिता स्वरूप सर्वत्र दृश्यमान के चरणों की में वन्दना करता हूँ ।
                             सूर्य देव ने संसार का हित करने वाले की हिमालय की चोटी पर किर्णित कर 
                             सर्व सारग्रन्थ स्वरूप गुणों का वर्णन किया ।

                    सुदरसन चक्र पानि धरन सुमिरनु मंगल स्वर ।
                    सूक्त बचन बदनु भजन सुनाद निगद दिनकर ।।   
                      
                     सौह्रदय निधि नलिन धरन  सुमिरनु मंगल स्वर ।
                     सूक्त सहस बदन भजन सुनाद निगद दिनकर ।।
                     सद्भावन के निधि कमला पति का ध्यान स्मरण कल्याण कारिकारी स्वरों में 
                             श्री विष्णु भगवान का सुन्दरता पूर्ण कथन भजन सूर्यदेव  शंख ध्वनी युक्त 
                             पाठ कर रहें हैं ।

                     गुरु/शुक्र 08/09 नवम्बर,2012                                                                     
  
                     नाम किरति करि नाम न होई । नाम धरन धरि नाम न सोई ।
                     भू भुवन भूरि भूति भलाई । करित करम करि जस तस पाई ।।
                     ईश्वर अथवा महापुरुषों का नाम जपने से मनुष्य ईश्वर अथवा महा पुरुष नहींहो जाता 
                            उनका नाम रखने से भी मनुष्य ईह्वर अथवा महापुरुष नहीं हो जाता । पञ्च भूत व प्राणी 
                            मात्र को अधिकाधिक भला कर उपकृत कर्ता को यश भी उसी प्रकार से प्राप्त  होगा ।
                     बंदउँ मंगल चरन अचारा । काम कलस करि मंगल कारा ।।
                     भुयहु भूयस भाग बिधाता । भाजन भुवन भूरि धन दाता ।।  
                      मंगल कामना करने वाले मंगल मंदिर में शुभ घड़ी में योग्यतानुसार जन धन 
                             से पूरित करने वाले भाग्य बिधाता के चरण की मैं बारम्बार वंदना करता हूँ । 

                      बिस्व जित जुद्ध जोनि जोधा । बीज भव भरत सकल प्रबोधा ।।
                      नाभि नाथ धृति पालन हारे । पउ पाचनु पति पोषनु धारे ।।
                      हे! विश्व युद्ध विजित, विश्व के योद्धा हे!विश्व के  मूल कारक ब्रम्ह स्वरूप ईश्वर हे! विष्णु 
                             तुम  समस्त जन को जागृत करने वाले हो हे विष्णु ! तुम सबकी रक्षा करने वाले, 
                             सबका पालन पोषण करने वाले समस्त तत्व को धारण करने वाले तुम ही विघटन शक्ति 
                             के धारन करने वाले विश्व के केंद्र बिंदु हो  ।

                      सहस सिखर कर धौतउ धामा । सहसस निगदहि अर्चन नामा ।।
                      कंठ बरन बर कुलि कर कोरा । जप जपनी जल जोरन जोरा ।।
                       दशतिदश किरणों से विन्ध्य पर्वत श्रेणी को दशतिदश बार धोकर सूर्यदेव दशतिदश
                              प्रकार के नामों का जाप  कंठ से सुन्दर उच्चारण करते हुवे हाथ जोड़ के किनारे ओस रूपी
                              ( माणिक कण )जल कणों से गुंथी माला ले कीर्तन वंदन करते है  |

                               
                       हरि कथन कीरत करन्ह क्रांत गीत गृह कर ।
                       हरि हरि हरिअरी हरिअन हरि हरि हरि अरी हर ।। 
                       हरी की कीर्ति कथा करने हेतु किरणों ने हरी मंदिर को ( किरणों की )लताओं में आवृत 
                              कर लिया । हरी हरी हरियाली को हरियाने हर्य ने हरी के शत्रु रूपी तिलचट्टों का हरण कर लिया ।
                              अथवा हल की आरी रूपी नोकों को तेज किया अथवा रावण सीता हरण के फेर में है । 

                      शनिवार, 10 नवंबर, 2012                                                                           

                      भिन भिन दिन दिन भए भिनुसारे । दुइदिग उदभिद भीति हमारे ।
                      भोग भाजक अरु तजन जनिता । एक दसमुख ते दुज तेहिं जिता ।।
                      प्रत्येक दिवस की भोर  होने पर हमारे भीतर  भोग का भाग फल एवं 
                              त्याग से उत्पन्न दो दिग्गज जागृत होते हैं एक रावण तोदुसरा उसे जितने वाला ।

                            एकउ धुत चरित दइत अचारी । दुज देउ कृत करि ब्यवहारी ।।
                     हिरन हिरन हन हरि जहँ जाहीं । हरा नत हरनु हरानत आहीं ।।   
                            एक धूर्त चरित देत के आचरण का है तथा दूसरा देव रूपी व उन्हीं के जैसा व्यवहारी है 
                            जहां त्याग रूपी राम माया रूपी सोने के हिरन का वध करने गए, तहां (सद चरित्र रूपी) 
                             हरिपत्नी को हरण हेतु नत मस्तक हो रावण आए । 

                             तरु तृन ललकिन कृमि कृत काई । लतिक रसन रद रूप रमिताई ।।
                     जंतु जिगमिषु जनजोनि  कैसे  । काम क्रोध लुभ मद मनु जैसे  ।।  
                      पादप क्रीमी अर्थात सरीसृप की काया हेतु ललचाता है । सरीसृप को  पक्षी की  काया 
                               लुभाती है जंतुओं को मानव  योनि प्राप्त करने की अबिलाषा कैसे होती है जैसे 
                              मानव को काम , क्रोध, मद व लोभ की होती है ।
                              

                        श्रुति गोचनि धर रंजन राखा  । सब्द कारि गह सहसस साखा ।।
                       हरिन नलिन लविन नयन पाँखी । दिनमनि मुखबहु सहुँ सहसाखी ।।
                       सूर्यदेव की मधुर ध्वनी  कानों में सुनाई देने लगी  दशतिदश शाखाओं वाले वेद के क्षोभ 
                               वायु तरंग द्वारा कान ग्रहण कर रहे हैं  । मृग नयनी की सुन्दर कमल जैसी पंखियों 
                                के सामने अनेक दिशाओं से सहस्त्र चक्षु रूपी सूर्य हैं ।

                                पलक पटल जुर तुर फुरकाए । रदपद मुख मुर मुरदरि धराए ।
                         अभिरति रत जे बसन उसारे । बर तर तिर पुनि  उसन बिसारे ।। 
                                  पलकों की जोड़ी ने तेजी से झपकने लगी ।  मुड कर अधरों को पिया  के मुख धार कर 
                                   रात को अनुराग स्वरूप वस्त्र विलग हुवे थे पिय के तले से खिंच कर भोर में पुन: पहन लिए 
                                  

                                   निभ निभरमन नीद उपारी । निलज लजन लजित  चरन धारी ।।
                          सिन्धु नवनीत नव दइताई । गवन गृह नहबन पद पैसाई ।।
                          चमकदार प्रकाश के प्रकाशित होने पर नीद को हटा पिय के ह्रदय रूपी सैय्य से निचे उतर 
                                    लजाते हुवे पद रखटी चन्द्रमा के जैसी नई नदी सी नवप्रिया ने स्नान हेतु स्नान गृह में 
                                    प्रवेश किया ।

                                   धार गहन धर बहुल बहाई । सुर सिन्धु सम सरित सुहाई ।
                                   भरन भवन धर चरनन चारे । बरन बरन बिस बसन बैसारे ।। 
                           ( वहां) स्नान गृह में लगा फुहारे रूपी बादल बहुंत ही बहे जो गंगा नदी के समान 
                                    ही सुहा रहे थे तात पश्चात वेशभूषा के कोष्ठ में चरण रख विभन्न प्रकार के 
                                    कमल जैसे रंग के वस्त्र धारण किये ।
                         
                           भरण भूषण धरणि धार शुभ  कृत दर्शन अंग ।
                           श्रीधर कर श्रिय श्रंगार शीश श्रीरवन रंग ।।  
                           आभूषणों से भूषित हो धरणी रूपी प्रिया का सुन्दर दर्शन 
                                    मंगलमय कल्याणकारी है हरिया प्रिया के शीश पर विष्णु रूपी 
                                    लाल श्रृंगार को धारण किये हुवे हैं ।
                            


                          रवि/सोम, 11/12 नवम्बर, 2012                                                                       

                            कंचन कुंदन कंगन कारे ।  कलप कारु  कर करक कगारे ।।
                          लाल ललामिक लहकित लतिका । नीक नक अंग लवंग कलिका ।।
                           कांच व् कुंदन के मोती का कार्य किये कागन हाथों के किनारे शोभायमान हुवे ।
                                    रक्त वर्ण की मोतियों की लड़ी वाली सुन्दर बुँदे एवं नासिका लौंग कलि सुन्दर अंगों में 
                                    शोभाय मान हुई ।
                          लसित ललित ललाटूल टीका । कंठी मनि श्री कंठ कूनिका ।।
                          मंजुल गवनि चरन सिंगारे । मंजीर मंडल मनोहारे ।। 
                         सुन्दर ललाट पर सुन्दर माँग टीका  कंठ में मणियुक्त हार व ( वाणी में ) वीणा सुशोभित हुई  । 
                                   (तत्पश्चात )हँस के जैसे गति कारी चरणों का घुंघरूओं से युक्त कुण्डलों अर्थात पायल से मन 
                                  को हरने वाला  श्रृंगार किया । 
                          सुर सुरूप सुरुधीरू सिरु साजे । मनहुँ मौर मनि सदन सुराजे ।।
                           राग रंग रज सूरज सोहा  ।  रागारुण  रथ रवनहि रोहा ।।
                          सिर पर देव स्वरूप सुन्दर लाल सिंदूर  शोभायमान है मानो सवयम विष्णु रूपी मणि 
                                   ही मंदिर में विराजित हो । अनुराग रूपी रक्तकणों में रंग कर बिंदिया रूपी सूरज शोभायमान 
                                    है मानो अनुराग युक्त लाल रंग के रथ पर स्वयं रमण  ही विराज मान हों ।

                                    मंजुल मुकुलित  मुकुर मुसुकाए । मुख कांत कमल चित कन छाए ।।
                           रति रत रमन नयन उन्नैने । लुरक लुरक लर लुरिअन लइने ।।
                            कमल के जैसा आभा मंडित मुख के चित्र कण स्वरूप छाने लगे तो दर्पण भी अधनिंदे से 
                                      मुस्कराने लगे । प्रियतम के अनुराग  में अनुरक्त नयन ज्यों ही झुके कर्ण के की बुँदे इन्हें 
                                      पाने के लिए आपस में ही लपट-झपट पड़ी  ।

                                      कृष कृष कूर्पर पद कर कुम्भकार कटि अंग ।
                             कुशय कुशेशय कलेवर कैशिक केशव संग ।।
                              दुबले पतले कुहनी व् घुटने युक्त हाथ व पैर हैं कुम्भ की आकृति युक्त कटिप्रदेश हैं ।
                                       रवण रूपी श्रृंगार से श्रृंगारित   ( कुम्भ में ) जलमग्न कमल के जैसी देह है ।।

                            पँवर पँवर पर पउँ पउनारे । पंथ गहन सुरबन पइसारे ।।
                            पउँर नुपुर पुर सुमधुर धारे । खनक कनक कन छनक झँकारे ।।
                                                          निहार निहार हार निहारे । निहोरहिं होरहु हो रहुँ हारे ।।
                            गहनहु गुहनहु गहनि गुहारे । भँवर भरन भए बारहिं बारे ।।   
                               
                           सुर बन बल्लभि पथ पद पारे । मुकुति सुकुति प्रसु प्रसुन प्रसारे ।।
                           प्रात पुजन पुन बंदनी बंदि । सुमुख मनि मत मति मधुर नंदी ।।

                           पुहुपक सुरबलि सिंच सुहाए । पुहुप रचन बरन भूषन भाए ।।
                           सिंच सरित सरि श्री श्रुति साधे । देउ कुट चरन चरइ अराधे ।।

                           दीप कालि कलि बर्तिक माला । अलि अधार धर अंकुर थाला ।।
                           दीपित बरन बर बृत अन्बिता । हरि भवन भित भविनन्ह प्रीता ।।

                          जगमग जग जगन्मयी जगमग ज्योति ज्वाल ।
                          जगर-मगर धर जगजयी ज्योतिमय जयमाल ।।     

                          बुधवार, 14 नवम्बर, 2012                                                                                   

                         कपूर प्रसंगित अगरु सुगंधा । भनिति बिनति भलि करि कर बंधा ।।
                         बंदन भजन श्रवनहि बनबारी । बद्धानंदन घन घाँ  घर घारी ।।

                         कला कलुक कर कलि कलिसाई । कलित कला कृत कलि कलियाई ।।
                         कली कलुष कर कलि कलुषाई । कलित कली भृत कलिजुग आई ।।
                          पैजनी की कला सेव कला मयी रचना से  अर्थात कला -संगीत को गृहित कर (शाखाएं में )
                                 नई नई कलियाँ उत्पन्न हो प्रस्फुटित हो  जाती हैं । ( किन्तु ) झगड़ा, पाप कृत्यों से तो एक युग 
                                 कलुषित हो जाता है,  युद्ध के कारण ही  कलयुग का आगमन हुवा था । 

                          नत नव नूतन नलिन निकासे । मूल फूल भए बहुल बिकासे ।।
                          छंद प्रबंध पद रसबत  रवने । सुनि पबि पबितउ पालउ प्रबने ।।

                          पब पब पबमन पबि पबिताई । भवन्हू बहु बन महुँ पहुनाई ।।
                          पदुम कर करित लसित ललसाए । पुहुप पत परस प्रसादनु पाए ।। 

                         पुन्न करमनी काल के कृतौ करहिं कीर्तन ।
                         पुनी पुर रजन पाल के जय जय कहहिं पुरजन ।।

                          
                         
गुरूवार, 15 नवम्बर 2012                                                                        

                         सुमनस मन अस सुम सुहाए । सुमित मिलहुँ सहुँ करज महुँ आए ।।
                         देखु देखु कहि गहिं पहुनाई । चलत फिरत चहु दिसित दिखाई ।।

                         तरु भुज मंडित बिलसहिं कैसे । बिलस सदन धनु सादन जैसे ।।
                         तलक तलक तरी तरु बिकसाए । तलप तले जनु दसन दसनाए ।।
                         धनुकर कानन कासउ काही । जनु धनु धनिअन धनिकहिं ताही ।।
                         धूम अयन पथ केतन कैसे । नयन भवन दय दयितहिं जैसे ।।

                          धूल न धूरे धूलि धुलिका ।  उबटहिं अभ्र इव बरन बधुहि का ।।
                          भुइँ भुइँ मुँदर बूँद फुँद पिरोए । जिमि नव कुँवरि के कुंडल कोए ।।

                          देखु सागर सैन सईं भसित तूल सइ सैन ।
                          समझ सैन सुमन मुसुकइ दिरिसहिं तिरछत नैन ।।





                           


1 comment:

  1. करवाचौथ की हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (03-11-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!

    ReplyDelete