Saturday, December 1, 2012

----- ।। अहोरा-बहोरा ।। -----

                             फर धरि कर भरि पैसहिं कूले  । रयन रल जुगल बैसहि झूले ।।
                             दंत घात छत बीजक फारे । कहु कन पिय पट कहु बधु निज धारे ।।
                              फल धार  हाथ में हाथ भर समीप जाकर हिल मिल ससंयुक्त झूले पर विराजमान 
                                        हुवे ।  अनार को दांतों से काट छिल फाँक कर कुछ दाने पिया के अधरों पर तथा 
                                        कुछ  बधू न अपने अधरों पर रखा ।।

                             अरु अपर धर रसनहिं रसीले । रसै रसै अस रसमस मीले ।।
                             सुधा भवन भित श्रव कर कासे । अधार द्रव धर बरसहिं भासे ।।
                              और दुसरे रसीले फलों का धीरे धीरे स्वाद का आनंद प्राप्त किया । धवल भवन के 
                                        भीतर ( पिया ) अमृत बरसाने वाली चन्द्र किरणों से कान्तिमान हो अमृत के पात्र
                                        में गोरस अपने अमृत तुल्य अधरों पर धार अमृत बरसान वाली मधुर भाषा में ---

                             बूझ बधुहिं कर कवलित कोरे । कहहु कवन भै गृहजन मोरे ।।
                             बदन बचन भर तव सहिं भँवरे । जित जे जस तव तस भए हमरे ।।
                              फल के कौर चबाते हुवे बधू से पूछा कहो तो मेरे कुटुम्बी कैसे हैं । (वधु ने कहा )मुख में 
                                        सात वचन भर तुम्हारे साथ एरे लिए हैं जितने जो जैसे तुम्हारे वैसे ही वो हमारे हैं ।। 

                             बरन बचन भए बिगत बतिआए । कछु प्रियतम निज कछु बधु बताए ।।
                             तनि बेर बिरत बिरधहिं बुलाए । चली चरण धर पउँर झनकाए ।।
                             ( और ) बहुंत सी बीती बातें बोलते हुवे कुछ प्रियतम ने अपनी कुछ वधु ने अपनी बताई ।
                                        कुछ समय व्यतीत होने पर बड़े वृद्ध जन ने बुलावा भेजा । बधू पाँव में पायल खनकाते 
                                        चल पड़ी ।।

                              मुद मुहूरत मंगल मइ धेनुधूरि भए  बेर ।
                              मधु बचन बिरध बदन कहिं होई तव पग फेर ।। 
                               बड़े वृद्ध जन ने मुख से मधुर बात कही  कि आनंदपूर्ण शुभ मुहूर्त युक्त 
                                        गौ धूलि बेला में अर्थात संध्या के समय तुम्हारी  पग  फेर की रीति होवेगी ।। 


                                        रवि/सोम, 02/03  दिसंबर 2012                                                                             


                              मौर मुकुट मुख मँडर मजीरे । पूर मधुर सुर मँजरिहिं धीरे ।।
                              मनि कंकन कर कंचन कूरी । पौर फेर मूरि भोर बहुरी ।।
                              सिर पर मोर मुकुट है जो चारो और से घुंघरू घेरे मंद मधुर सुर से युक्त लड़ियों से 
                                        पूरित है नदी किनारे स्वर्ण मणियों से मंडित कंगनों क हाथ में भर उस मणि युक्त 
                                         नदी किनारे की सीड़ी से भोर के चरण लौट चले अर्थात अपरान्ह हो गई ।।

                             चल हिरन बीर सकल सँकासे  । बिभा भूत भए भूति बिलासे ।।
                             दिन नायक मुख मूरधि चाढ़े । अयन धरन पद पछिम दुवारे ।।
                             सूर्य देव संचरण करते स्वर्णखंड के सदृश  प्रज्वलित हुवे । प्रभा प्रखर हो सौर्य शक्ति का 
                                       प्रदर्शन कर सुशोभित हो रही है । देव स्वरूप दिवस के अधिनायक का मुख उदय-
                                       गिर पर्वत पर चढ़ चरणों की गति पश्चिम द्वार की और बढ़ी ।।

                                      उषस जान चढ़ उरूज उरि उषा । भरहु  बिभूरसि बिभिन्न भूषा । 
                             उर उरसिज धर अरुनइ अचरा । बरन भरन भए अभरन अपरा ।।
                              प्रभात के यान पर चढ़ कर उषा ऊपर की और उड़ चली । अग्नि मूर्ति स्वरूप विभिन्न 
                                        वेश भूषा भरे ह्रदय-उरोज पर आँचल धरे अनोखे ही वर्ण युक्त आभूषण धारे --

                             अपद पदम पद अंतर पारे । पार गमन धर दरसहिं  धारे ।।
                             नग मूरध तर नगर नियासे । नत नद नदीन अगिन अगासे ।।
                             आकाश में एक उपरांत दुहरे पद चिन्ह कर चलते आँचल के नीचल किनारों का अवलोकन 
                                       करते नदी समुद्र के किनारे पद रख पहाड़ की चोटी से उतर नगर पर पद चिन्ह अंकित किये 
                                        नदी, समुद्र, पर्वत आदि आकाश की अप्सरा  के आगे नतमस्तक हुवे ।

                             दिव्य बसन धर भवन बहारे । नत नगर जन ददन उपहारे ।।  
                             प्रभा पल्लब प्ररोहन लेपे । असन भरन धरि बधू बहु झेंपे ।।
                              ( सूर्यदेव ) दिव्य वस्त्र लेकर भवनों के द्वार पर स्थित हैं (अर्थात भवन के ऊपर सुर्य 
                                        का  प्रकाश प्रकाशित हैं और नतमस्तक हो प्रकाश स्वरूप वस्त्र,  नागरिक जनों 
                                        को भेट कर रहें हैं । (एवं )सूर्य की पत्नी  प्रभा ने कांतियुक्त किरणों की चमक को भवनों के 
                                        चारों और बिखेर रही हैं । कुछ ऐसा  ही वेष धारण कर वधु भी ( परिजनों के मध्य )
                                        सकुचा रहीं हैं । 
                                         
                                       हिरन कारे कृत सकल गारे गहन हारे ढारिके ।
                             गुटिका बंधन मुतिका अंकन करज कंठी धारिके ।।
                             सकल गहन धरित दुलहन सुर सारंगनि तारीके ।।
                             कलित कंकनि लसित लंकनि हारि कंठन हारि के ।।
                             सुनार ने अग्नी में स्वर्णकण को गला कर गहनों एवं मालाओं को ढाला ।
                                       माला में मककों को गांठों में बाँध उँगलियों में धर कर जड़ा ।।
                                       सब प्रकार के आभूषणों को धार कर दुलहन सारंगी के तारों से निकल सुर 
                                       के सदृश्य ध्वनित मान है । कटि सदन में विभूषित सुशोभित हो करधनी 
                                       के सूक्ष्म नुपुर मधुर भाषी क्किला को भी मुग्ध कर रह हैं ।। 
                                        
                                       दमक दधि सोन मनि सरूप दुलहिन धर सिंगार ।
                             अति अनूप रूप कै धूप प्रियबर रहहु निहार ।। 
                                       दमकती लाल मणि स्वरूप वस्त्र और श्रृंगार दुल्हन धारण किय हुवे है । अत्यधिक ही अनुपम
                                       अर्थात जिसकी उपमा न दी जा सके रूप की धुप धारिता को प्रिय निहार रहे हैं ।

                             जहँ जनित जुगल जे जनि जनिके । डगर नगर तहँ नागर नीके ।।
                             पदक पत्तन बहु भवन मढाए । बरन बर भर घर गगन चढ़ाए ।।
                              जहाँ वर-वधु का जन्म हवा तथा जो उनकी मातृ भूमि है । वह नगर वहां का मार्ग व  नागरिक 
                                        अति सुन्दर हैं । नगर क स्थान पर बहुंतस भवन निर्मित हैं जो सुन्दर रंगों से रंगे गगनचुम्बी हैं ।

                             मंडहिं मंदिर धरम पंडिते । भलमन बनिजन पनि मंडिते ।।
                             फिरत बटाऊ बटुबन मोरे । करन पनन पन ग्रंथिहिं पौरे ।।
                              जहां विभिन्न धरमों  के पंडितगण पूजन भवन को सजा सँवार रहे हैं । सज्जन
                                       व्यपारी गण क्रय-विक्रय केंद्र में सुशोभित हैं । ग्राहक स्वरूप पथिक धन धारण 
                                       थैली को मोड़े केंद्र की सीड़ियों पर चलते  क्रय-विक्रय की क्रिया में मग्न हैं ।

                                        मनि मानिक के पनि मनियारे । कंकन कंगन कुंडल कारे ।।
                              दीप भूमि सेल सर स्यामा । नग नख नछत नयनाभिरामा ।।
                             मणि माणिकों के व्यापारी व कंगन करधनी एवं कुण्डलं के कलाकार शोभाय मान हो रहे हैं । 
                                       रत्न जड़ित द्वीप स्थित पर्वत के नीलम हीरे एवं काले हीर अर्थात कोयला व् मुक्तिक जढ़े हुवे 
                                       पत्थर (अथवा पर्वत) देखने मन अति सुन्दर हैं ।

                             मटकहिं मटियहिं मठियहु धारे । मानक  मनहर कर मनिहारे ।।
                             मट मटुकी लै लउ नरियारें । मनिक बनिक बट मढ़ मटियारे ।।
                              काँच काँसे आदि की चूड़िया व काजल मनके की माला आदि धारे हाथों में भरते 
                                       इनके विक्रेता मटकते हुवे अति मनहर प्रतीत हते हैं । मिटटी की मटकी ले लो 
                                       ऐसे हुंकारते मिटटी के घड़े को विक्रय करते कुम्हार मार्ग के किनारे अड़ कर बैठे
                                       हुवे हैं ।

                             अगरउ तुलधर लगहर धारे । बोर बोर भर बोअनि भारे ।।
                                       पथिकार पंथ  पद पद सारे । पथ पथ पंगत पख पंसारे ।।
                             सामने तुला धारे ग्रामीणो की गट्ठों में भरी उपज को तौल कर(क्रय कर) बोरियों में 
                                       भर रहें हैं  वास्तुकार  ने चरण चरण पर मार्ग का   निर्माण  किया है  डगर डगर पर  
                                       पंक्तियों में दैनिक उपयोग की सामग्री क्रय -विक्रय केंद्र में  पंक्तियों से सजे हैं। 

                             चरन पथ पँवर पइसार दय दुआर के चिन्ह । 
                             जहँ बरस भर भए तिहार तह भरत खन अभिन्न ।।
                             जहाँ धर्म आचरण की कीर्ति गाथा है और  द्वार का  चिन्ह अंकित है  
                                      बारहों मास विभिन्न त्यौहार आते हैं  वह अखण्ड भारत का ही खंड है  ।।

                                       मंगलवार, 04 दिसंबर 2012                                                                       

                             झाँबर चावर कहुँ झरबेरी । चिंआँ छात कंबी के ढेरी ।।
                             कहुँ कूर गुलइ चाट खटाई । कहुँ भुरभुर गुर गाँठ मिठाई ।।
                             कहीं पर टुकनियों में चावल वनबद्रिका, इमली के बीज, कुकुरमुत्ता एवं करील अर्थात 
                                       कच्चे बाँस के साक के ढेर लगे हैं कहीं पर मीठी चटपटी आम,इमली आदि के चूर्ण की
                                       ढेरी लगी है । कहीं नरम नरम गुड़ की गांठे व उआसे निर्मित मिठाइयां हैं । 

                             तूल भए बट एक गिनी के ढाई ।  बिकत बिछावन खाट चटाई ।।
                             कनक कारूक कहिं कार कराएँ । कनिछद मनिबध कंधार धराए ।।
                              एक सिक्के में ढाई के भाव में तौल कर क्रय की जा रहीं हैं । घरेलु आवश्यकता की साज 
                                       सामग्री भी बिकाऊ है । स्वर्णकार कार्य अर्थात स्वर्ण कलाकारी कराने हेतु कर्ण छेदन कर 
                                       मनियुक्त कर्ण आभुषण धारण को कह रहे हैं ।।

                             लुहार हँकार धार हथौड़े ।  कृषिकल धर हल धनकर कोरें ।।
                             उर्बर हरिअर गोमय गोरें । हयनंदन धन धान बटोरें ।।
                              लोहा के शिल्पकार अर्थात लोहार हथौढ़े से आकृति दिए कृषि उपकरण धरे हल से
                                        उपजाऊ धान उत्पादित भूमि में उत्पादन हेतु पुकार रहें हैं एवं कह रहें हैं कि हरि हरि 
                                        गौशकृत की उर्वरा को कृषि भूमि पर बिखराव कर हरी हरी मूँग धान का उत्पाद धन 
                                        प्राप्त करें ।।  

                                       निकट बिकत महिं माहहिं महिषे । धानबीर कुम्हरीहिं मीसे ।।
                              कातिकार कहुँ कापर अंगे । नील धवल हर केसर रंगे ।।
                               पास ही हात के बीचोंबीच दुधारू गौऊ व भैंस व उड़द व कोड़ा के मिश्रण से 
                                          निर्मित मुंगौरियाँ भी बिक रही हैं । कहीं  नीले उज्जवल हरे केसरिया रंग में रंगे 
                                          अंग वस्त्र एवं उसके सिलाईकार हैं ।।

                                गाँव गँवारिन गँठ झलबोरे । चलहिं फिरहिं धर गरुअन झोरे ।।
                               गह  गाहक करि गाहकताई । हाँक हाँक भरि हाट अटाई ।।   
                               गाँव की गंवारिने झालर युक्त आँचल में धन की गाँठ लगाए हुवे चलती फिरती 
                                          भारी थैले धारे हुवे हैं ।  ग्राहक क्रय विक्रय में मग्न हैं । क्रय-विक्रय केंद्र लेलो -
                                          लेलो के कोलाहल से अटा हुवा है ।।

                              एक सहुँ अनित मनिक बनिक  खलीधान  के कृषिक ।
                              दुज मनिसर स्याम पनिक धरित धनधाम एतिक ।।
                               एक और घड़े क विक्रेता व खलियान के क्रिहक अभाव ग्रस्त हैं । दूसरी ओर 
                                         काले हीरे के व्यापारी बहुंत रूपय-पैसे घर-द्वार धारे हुवे हैं ।।
  
                              एक कहु कनि कन दव धनिक पूछहिं भीत मनिक कतिक ।
                              मत मंगतु कहिं ददन तनिक देख भोग के भिखिक  ।।
                              एक कहता है हे धनवान  अन्न की भिक्षा दो  स्फुटिक अर्थात श्वेत-प्रासाद के 
                                        भीतर से वाही धनिक पूछता  है कितना ??  मतों के भिखारी अर्थात नेता-मंत्री 
                                        हुवे कहते है थोड़ा सा देना  भोगों के भिखारी को देखो  ।।
                      
                                        
                             बुधवार, 05 दिसंबर, 2012                                                                    

                              भए धरनि धर तरनि अरु नारी ।  एक गत एक रत एक रूप धारी ।।
                              थल कल कल कर उरस अधीरा । अतल पुरस भर बिरहन पीरा ।।
                               धरती ने नारी एवं नदी एक ही गति एक ही मनोयोग में लगी एक ही रूप धार्यता को 
                                         धारण किया हुवा है । सतह पर कल कल करती ह्रदय में अथाह विरह वेदना धारे 
                                         आकुल अर्थात धैर्यरहित है ।। 
                                            
                              गए सरनहिं सम सागर पुरुषा  । एक तार एक रंग एक भूषा ।।
                              धीर चेतन अधर गंभीरा । उत्कल उच्छल उत्तल सीरा  ।।
                               एक ही रंग रूप के एक ही आकृति लिए एक ही वेश भूषा युक्त सागर व पुरूष में
                                         समरूप समाहित है । सागर व पुरुष दोनों के अंतस शांत व गंभीर व  बंधन से 
                                         मुक्त किन्तु  सतह पर  कगारों में छलकते से तरंगित हैं ।।

                              एक दिसि समरूप एकहिं अकारा । दूर दिरिस दृग तात पहारा ।।
                              अटल अचल तल धार अधारा । उर पुर धर तुर तरियन धारा ।।
                              सामान रूप आकार व एक ही दृश्य रूप में आँखों से दूर दिखाई देने वाले 
                                       गतिहिन् चिरस्थाई आधार सतह पर स्थापित पहाड़  पिता  तुल्य हैं । जिनके ह्रदय का 
                                       छोर तेज धार लिए सरीता की धारा रूपी पुत्री को धारण किये हुवे है ।।

                                        अदि तर नदी चर उदधि धामा । जनक जनम धर पर धी नामा ।।
                              निर्झर झरनिहिं निलय निवासे । नयन निलयन नदीन नियासे ।।
                              पहाड़ से उतर नदी सागर के धाम की और चलती है और पुत्री वर के धाम को । जिसका 
                                        जन्म होते ही मातु-पिता पराया धन नाम रखते हैं । नदी व  पुत्री पहाड़ रूपी पिता के ह्रदय 
                                        में निवासित है जो नयनों से उतर कर नदी रूपी धारा लिए सागर की धरोहर स्वरूप है ।

                              धरनि तरनि धर तरंग माला । सजुस सजन कर सागर भाला ।।
                               नद नद राजन बदन अधारे । पार गमन कर पद उर धारे  ।।
                               धरा  से उतरती नदी तरंगों की माला लिए  सागर के शीश में विभूषित कर 
                                          प्रिय स्वीकार करती है नदी सागर के आधार द्वार के पार पहुँच कर पिया के 
                                          ह्रदय में निवासित हो जाती है ।

                                शिव तेज धार कर शिखर अधार बिदिसा धर दय दिसा ।
                               शैल राज सार कटक उतार सर संचार सुता सरिसा ।।
                               लइ लवनाकार सइ सिंगार गई दुआर हरि मंदिरा ।
                               शिवपुरी पार सैल सिविर धार संधि सार निर्झरा ।।
                               शिव ने शिखर आधार पर ( गंगा की ) तेज धाराओं को धार कर दिशा हिन को दिशा दी 
                                          हिमालय पर्वत ने उसे आकार देकर अपने ढालानों से  उतार गंगा रूपी पुत्री को 
                                          मार्ग में गतिमान किया ।। सुशीलता स्वरूप श्रृगार धर हरि के मंदिर के द्वार पर 
                                          पद रखा । जहां से गंगा काशी को पार कर सागर की धाराओं में दृड़ता पूर्वक संयुग्मित हुई ।। 

                                          एकहुँ सैल सार सरीर दुज सागर बरधर धीत ।।
                               शिव शिखर कर गति गिरि गिर सिर सिर संहित सरित ।।         
                                एक ओर ( हिमालय )पर्वत का दृढ शरीर दूसरी ओर सागर जल का अकूत आगार लिए 
                                           प्यासा । शिव के शीश से सुख समृद्ध करती कैलाश पर्वत से उतरती गंगा उसकी 
                                           चोटियों से सिंधु के मुहाने तक सुसंयोजित है ।।


                                 गुरूवार, 06 दिसंबर, 2012                                                                      
                                इहिं गृहजन गन कन धराए । रमनहिं कहिं तेहिं रीति निभाएँ ।।
                                एहि रीति अति बिरह गति धारे । तिमि ते बधु जहिं तात दुआरे ।।
                                इधर कुटुंब जन व गणमान्य सदस्यों ने रमन के कानों में डालते हुवे कहा तुम्हें  इस 
                                          रीति को निभाना है । ये रीति तो बहुंत ही बिरह गति धारण किये हुवे है । इसमें तो 
                                           बधु अपने नैहर जावेगी ।
  
                                इहि बिचार कर उर उछबासे । मुख मंडल बर अधस उदासे ।।
                                पद पुर परिजन सदन्हि पैठे । दिरिस नयन बर बधु बिच बैठे ।।
                                 यह विचार कर बार का ह्रदय आह भरा एवं मुख मंडल निचे कर  उचट सा गया ।
                                             चरण अतिथि गृह की ओर प्रवेश किये एवं वर के नयन बीच बैठी वधु को देखने हुवे--
                           
                                 जुग्यन जोर धर जुगति लगाए । बधु पुर रोचन लोचन लखाए ।।
                                 बैन नैन भर बधु सहुँ सारे । सैन सैन कर प्रिय उर तारे ।।
                                  मिलन हेतु  जोड़ युक्ति भिड़ाते हुवे वधु की ओर चमकटी नयन से  देखने लगे ।
                                             नयनों में बाण भर वधु ने सन्मुख साधे । संकेत रूपी इन बानों को पिया के ह्रदय 
                                              में उतार  दिए ।

                                  सैन बैन भए नैन भए गिरा । किमि कारनु लखि पूछ अधीरा ।।
                                  बर नयनन सर सैन सहारे । बहुहि बिकल भए मिलन तिहारे ।।

                                   इस प्रकार संकेत बाण रूप में वाणी को नेत्र युक्त करते अधीर होकर पूछने 
                                              लगे किस कारण से ऐसे देख रहे हो । वर ने नयनों के संकेत रूपी तीरों को संभालकर 
                                               कहा तुम्हारे मिलन हेतु बहुंत ही व्याकुल हैं ।।
                                                  
                                   बैन बदन बर बैन भए नैना । बोल मिलन बिनु परि नहिं चैना ।।
                                    बाण रूपी मुख से नेत्र को वाणी युक्त करते बोले बिना मिलन के चैन नहीं मिलता ।

                                               प्रिय असमंजस प्रीतिबस चितइ तिरछ कर सैन  ।
                                   दरस मिलन दुरि अस जस चंद्र काँति चक नैन ।।
                                    दुविधा धारण किये प्रिय प्रीत से परिपूर्ण हो संकेत करते तिरछी दृष्टि से देखते हैं 
                                    मिलन दर्शन ऐसे दुर्लभ हुवे जैसे चन्द्रमा की कांति चकोर के नेत्र को दुर्लभ हों ।।
                              
                                 
                                   शुक्र/शनि, 07/08 दिसंबर, 2012                                                               

                                  बिरत बेर तनिक अवसर पाए ।  गहिं मनिबंधन कोन  पहिं लाए  ।।
                                  जुगति करत तन श्रमकन कासे । समित रमित श्रिय हरि हरि हाँसे ।।
                                   किंचित समय व्यतीत होने के पश्चात अवसर मिलते ही प्रियतम ने प्रिया की कलाई को 
                                               पकड़ कर कोण के पास ले लाए । इस मिलन जुगति लगाने में पीया के तन पर स्वेद कण 
                                               ही चमकने लगे अर्थात अत्यधिक श्रम करना पडा । इस मिलन के वशीभूत प्रिया धीरे धीरे 
                                                हंसाने लगी ।

                                   हंस हिरन कन मधु सुर ओटे । सोम सुमन पत हहरत होंठे ।।
                                   नयन सजन सहिं जुग भए चारे । तय लय पग नय ह्रदय पधारे ।।
                                   सोने- चाँदी के से घुंघरू भरे मधुर सुर में हँसते प्रिया के पुष्प की कोमल पत्तियों के जैसे 
                                               होंठ काँप रहे हैं । जब नयन सजन के नयनं से जुड़कर चार हुवे । तो संताप लिए 
                                               प्रभु के चरण ह्रदय में पधार गए ।

                                               दिरिस भवन धर चरनहिं पूरे । चित बिलस घन गगन के धूरे ।।
                                   चेतन हरन पौर पथ चाढ़े । देहरि दुअर थर मझन ठाढ़े ।।
                                    वहाँ ह्रदय भवन को देखकर पग भरते हुवे ब्रम्हा स्वरूप में पिया ज्ञानमय शुद्ध 
                                                आत्मा के पास पहुंचे । चहेते, चारु प्रियतम  सीड़ियाँ चढ़ते ह्रदय की देहली के 
                                                 द्वार के मध्य स्थान पर रुके ।।
 
                                   पुहुपकार जनु चयनहिं झारे  । प्रपद साधन पथ पदन सारे ।।
                                   प्रसल पटल पिय पद पत चाके । जनु प्रचरत चर चलत चलाके ।।
                                   पुष्पसूत्र के रचियता ने जैसे ह्रदय में समस्त पुष्पों को तोड़ चरण श्रृंगार स्वरूप 
                                               पिया के पहुंचते ही मार्ग पर प्रस्तारित कर दिए हों । हेमंत ऋतु के पटल पर पिय के 
                                               पद पत्रों पर पदचिन्ह अंकित करते इस रीति से  विहार कर रहें हैं मानो कोई मोर 
                                               चल रहा हो ।

                                    बोलउ भित भर भित कर पीठे । दिसकर दिसभर कातर दीठे ।।
                                   रीति चार नहिं चेत करेहू । मम सन सूचन किन न कहेऊ ।।
                                   अंतस भारी कर भित्ति से लगे पिया प्रश्न भरे कातर दृष्टि से देखते हुवे बोले ।
                                               तुमने रीति आचार का ध्यान नहिं कराया मुझेसे  ( नैहर जाने की ) सूचना 
                                               क्यों नहीं कही ??
  
                                    तवहिं सतावन कह कह्कारे । चित चंचल कर अंचल सारे ।।
                                    कवन बिधि सन कहति तव कैसे । दुइ पहरहु परिजन बिच बैसे ।।
                                    तुम्हें सताने के लिए  नयनों को चंचल करत आँचल को सारते प्रिया कहकहा हुवे कहा ।
                                                तुम्हें  किस रीति से एवं कैसे कहते । दो पहर तक तो परिजनों से घीरे थे ।।
                                    सील  कर बिगर मुख भए फेरे । तब प्रिया भुज सिर सिखर घेरे ।।
                                    चिबु सनमुख कर जाचहिं नैना । छमापन कह सैन भर बैना ।।
                                     पिया मुख से कुछ न कहते हुवे रुठते हुवे से मुख दूसरी ओर फेर लिए । तब प्रिया ने
                                                 अपनी भुजाओं से पिया के कन्धों क घेर कर उनकी ठोड़ी अपने सामने कर नैनों से 
                                                 याचना करते हुवे क्षमा पाने हेतु संकेत में वाणी पिरो कर प्रार्थना करने लगी ।।

                                    मदिर नयन नंद मंद समिते । जनु मंदन गवनु पवन सरिते ।।
                                    सिंगार सिंधु कृत कर भेसा । लखिहिं जतन बर रतन सुदेसा ।।
                                                प्रसन्नतापूर्ण सुन्दर नेत्र सहित पिया धीरे से ऐसे मुस्कराए जैसे मद्धम हवा व 
                                                 नदी ही बह रही हो । श्रृंगार का आगार लिए रचनापूर्ण यथा समय  प्रयुक्त रत्न 
                                                जड़ित वेश भूषा धारे प्रिया को पिया देखने लगे ।।

                                               मन मंदिर मंडन प्रिय मंजु मूरति मनोज ।
                                   मुख मयंक छबि रूप अमिय अधर अधर धर ओज ।।
                                    मंदिर स्वरूप मन में प्रिय अलंकार हैं प्रेम सुन्दर मूर्ति है । मुख चन्द्रमा के समान है
                                                रूप की छवि सुधा तुल्य है गगन मंडल व अधरों पर इसकी कांति है ।

                                   मुख मुकुलित छबि मकरंद यवन लवन बवन रूप ।
                                   मँजीर मंजु वदन मंद पय पिय धर रूप मधुप ।।       
                                   अधखिली कलि के सामान मुख की रूप की छवि सुधा है उभार लिए हुवे रूप का लावण्य
                                               प्रस्तारित है । घुंघरू के सामान  सुन्दर मंद वाणी के गुंजन से युक्त पिया भौंरे के सदृश्य 
                                               रूप मकरंद का रसपान कर रहे हैं ।।
    
                          
                                               रविवार, 09 दिसंबर 2012                                                                   

                                   जर जर छबिकर चर जग साखी । लाख तरु सदन लावन लाखी ।।
                                   जरित जोत कर जोर जुहारे । हिरन सकल धर हंसक हारे  ।।
                                    जल जल कर चमकते विचरते सूर्य की सुन्दरता पलाश के वन के जैसे दिखाई दे रही है 
                                                जलती हुई ज्योतिकिरण स्वर्णकण  के घुंघरू युक्त हार के हार धरे  हाथ जुड़े हुवे से  नत 
                                                मस्तक है ।

                                   जथा धरा धर सत कृत काँठी । ज्ञान के मुकुत मनि गुन गाँठी ।।
                                   धूत कृत चरित मनिधर माला । दंत बिष धर दंस कर काला ।।
                                    जिस प्रकार धरती के कंठ में सदाचारी तथा उअसके ज्ञान के मोती माणिक ( मनुष्य के ) 
                                                गुण की रचना करते हैं  युक्त माल  धारण करती है ।  साथ ही दुराचारी के चरित्र को भी 
                                                सांप की माला स्वरूप धारती है । दांत में विष धरे ये डांस कर मनुष्य के काल का कारण बनते हैं ।।

                                                       
                                    तथा दिवस कर अधर दुआरे । ज्ञान जोत धर जग उजियारे ।।
                                    ससि मनि रयनि धर शेखर सिखा । तमोगुन गिन कर काल सरिसा ।।
                                    उसी प्रकार अम्बर के घर द्वार में सूर्य के ज्योति के ज्ञान से समस्त जग में उजाला भर जाता है 
                                                एवं रात्री के शीश मुकुट में मणि स्वरूप चन्द्रमा के रहते हुवे भी अन्धकार स्वरूप अज्ञान, क्रोध 
                                               आलस्य जैसे तामस वृत्ति वाले गुण काल अर्थात म्रत्यु के कारक  स्वरूप गिने जाते हैं ।।

                                   पुन करित फल धराधर धारे । धार बरस धर बारहिं बारे ।।
                                   पापक नीति फल नियति सारे । बिपद दसा धर काल उतारे ।।
                                   पुण्य करने वाल के शुभ कार्यों का फल जब धरती व अम्बर को प्राप्त होते हैं तो वे बादल बन
                                               प्रत्येक वर्ष सुखदायक अविरल वर्षा में परिणत हो जाते हैं । किन्तु जब प्रकृति पापी दुष्ट के
                                               के पाप कर्म के फल को धारण करती है तो वह प्राकृतिक विपदा स्वरूप संकट कारी होकर 
                                               काल अर्थात मृत्यु  के अवतार मन होती है ।
                                                     
                                   पाप धृति कृत कर कराल तहिं उपाधि उपाधि  कल ।
                                   काल कलप करित अकाल पहिं जन लोक के फल ।।
                                   पाप धारण करने वाले पापी के कर्म फल डरावने रूप में होते हैं एवं उसकी उपाधियाँ 
                                               व  पदक उसके छलकारी शस्त्र के जैसे होते हैं । जो अकाल उत्पन्न कर मृत्यु का 
                                               कारण बनकर नरक के फल स्वरूप मनुष्य को प्राप्त होते हैं  ।

                                   पुण्य पति के करम भाल उपाधि पापधन फल ।
                                   काल कलप कर कन घाल पहिं लोक गंगा जल ।।
                                   पुण्यवान के कर्मों के फल भाले स्वरूप होकर दुष्ट के पापों के फल को नष्ट कर 
                                              म्रत्युअर्थात काल  की रचना कर सिचाई कर  गंगा  जल  स्वरूप उतर मनुष्य को 
                                              जीवन प्रदान करते हैं ।।
                                                   
                                   पाप धृति के कर कराल पहिं जन लोक के फल ।
                                   पुण्य पति के करम भाल उपाधि पापध्न कल ।।

                                       सोमवार 10 दिसंबर 2012                                                               

                                      हरि हरि हरि धर अंबर चरना । सार गतिक कर पच्छिम सरना ।।
                                      अगिन भवन धर जोग ज्वाला । गमन बसन भर सामन साला ।।
                                      सूर्य धीरे धीरे अम्बर मन चरण रखते  पश्चिम दिसा की शरण में साध्य होकर 
                                                   गतिमान है । ज्वाला युक्त अग्नि के योग को अपने भवन में धारण कर लाल 
                                                   अग्नि के वस्त्र वेश में अपनी यज्ञ रूपी अग्नि की अंतिम आहुति को तत्पर है ।
                                               
                                      रति रतनार अगार अवनि के । परखहिं परगस परखी महि के ।।
                                      बरन लवय लख लाल मनि के । बवन बर भर भवन भवनी के ।।
                                      धरती के लालरत्न कोष से अनुरक्त प्रकाश को धरती के ही पारखी परख रहें हैं ।
                                                  लाख लाख लाल एवं मणियों का रंग लेकर सुन्दरता पूर्वक गृहणियों के घरों को 
                                                  सूर्य देव संपन्न कर रहे हैं । 
                                                      
                                      सोम कंत कर सीस ससी के । मुख रूप रोचन रयन रयनि के ।।
                                      तूलि तरंगन तीर तरनि के । वट घट रंजत चित्रपट नीके ।।
                                       सूर्य की किरणों का प्रकाश चन्द्रमा के शीश को कान्तिमान किया जिससे 
                                                   रजनी कका मुख भी चन्द्र किरण की कांति से अनुरक्त हो शीतल स्वरूप हो गया ।
                                                    किरणों ने अपनी तुलिका के कोन से आरोहन  अवरोहन पूर्वक  नदी के घाट 
                                                    एवं तरुवर को रंग कर सुन्दर चित्र पति में ढाल दिया ।। 
                                                    
                                      तरतहिं धरत धरनि अनुरागा । भेँट करत पद पदुम परागा ।।
                                      रसै रसै तर दिन मनि कंता । दरसहिं तरलहिंदिग दिसि अंता ।।
                                      सूर्य उतरते उतरते धरती पर अपना प्रेम निछावर कर उसके चरण 
                                                  कमल में धुल स्वरूप पराग का अर्पण करते दिन का सिरोमणि सूर्य 
                                                   धीरे धीरे आकाश के अंतिम छोर पर हिलता डुलता दिख रहा है ।।
  
                                      उयउ दिन अदि बिकिरन तर सहस नयन सह हस्त ।
                                      श्रम सँजात सहस कन धर अस्त गत महुँ ब्यस्त ।। 
                                      भर में सूर्य अपने सस्त्र हाथन से किरणों का प्रस्तार कर उदय हुवा 
                                                  दिन भर श्रम कर पारिश्रमिक स्वरूप धुल कण को सिरोधार कर 
                                                  अस्त होने में व्यस्त है ।।

                                     मंगलवार, 11 दिसंबर, 2012                                                 

                                    सुभ घरी घर सन निकर अनंदु । आए दुअर बर बधु के बँधु ।।
                                    लेवन अनुजा अति अनुरागे । प्रनाम कर परिजन पउ लागे ।।
                                                शुभ घड़ी में वधु के बंधु घर से निकल कर आनंदपूर्वक वर के द्वार पर छोटी 
                                                 बहन को ले जाने हेतु सस्नेह पहुंचे ।
                                                  
                                    मिलत लगत हियँ सबसथ भेंटे । सनेह समेत सपेम बैठे ।।
                                    भेंट समेटहु  कर गहि नाना । भा सब के मन कहँ किमि बखाना ।।
                                     सब को ह्रदय से लगाते हुवे भेंट करते स्नेह पूर्वक प्रेम सहित बिराजे । हाथ में 
                                                 समेटे विभिन्न प्रकार के उपहार सब के मन को भाने वाले ऐसे थे जिनका वर्णन 
                                                 कैसे भी नहीं कहा जा सकता ।

                                    प्रिय परिजन पुरसन समदाने । समधियन धी अधिक सनमाने ।।
                                    सेवत अहार रूचि कर कारी । पूछ कुसल भए मंगल चारी ।।
                                     प्रिय एवं परिजनों को सर्वप्रथम भेंट देकर सम्मानित किया बहन की ससुराल,
                                                 समधी, को बहुंत ही अधिक सम्मानित किया । स्वादिष्ट सुरुचि पूर्ण आहार का 
                                                 सेवन करते परिवार की कुशल मंगल पूछने लगे ।।
                                                  

                                    तिरछित नयन धर देख अनुजा । धन्यन मान भए तनी तनुजा ।।
                                    लोचन लोल ललित लतिकारे । अंतिम भेंट भगिनि कर धारे ।।
                                    जब तिरछे नयन कर सौभाग्यवती वर से बंधी बहन को  देखने लगे तो नयन में 
                                                सुनफ सुन्दर मोतोयों की झालर स्वरूप आंसू लहराने लगे । यह अंतिम उपहार 
                                                बहन के हाथ में सौपा । 

                                    चलि सयन सदन सँजोअन बेर पुर पितु पयान ।
                                     केस साध पेस  लवकन फेर भेस परिधान ।।  
                                     पिता के घर समय पर प्रस्थान हेतु वधु शयन कक्ष की और तैयारी हेतु चली गई ।
                                                 केश रचना कर  रूप चमत्कृत करने हेतु वेश भूषा बदलने लगी ।।

                                     बुधवार, 12 दिसंबर, 2012                                                              

                                     दिन भए दिव छय पथ गह जैसे । छइँ गृह पथ मय निरखहिं तैसे ।।
                                     छिनु भर छनकर कन कन सारे । जनु चिती छितिज छत छतनारे ।।

                                     रूप रतन जस दरपन अगोरे । तस अँखि लखि ससि अपद अँजोरे ।।
                                      पथ जोहहिं सहिं सदनहिं कोरे । हेर हिमकिरन गगन हिलोरे ।।

                                      अहि थर तनि कर रंदन धोरे । जनु सिसिरत रल हेमल होरे ।।
                                       जस जस बधु पद पौर नियासे । तस तस अरु सद सिकुरहिं कासे ।।

                                       जथा चंदु चौखट चिन्हारे । तथा दरस धर सौर सिधारे ।।
                                       सारँग चर चंदिर चौंरे । चित चेतन जनु चाँद चकोरे ।।

                                       अस दर्पण धर बधु के आभा । हिमांसु अंसु पुंजित नाभा ।।

                                       हंस पहिं पदुम पद कोर हंस हंस पत पोर ।
                                       हंस गमन नाद हिलोर हंसक हंसक सोर 
                                    
                                       गुरूवार, 13 दिसंबर, 2012                                                                        


                                        मुख रजत मय अचल गिर धोरे । रुप  रयनिचर अंतर  बहोरे ।।
                                        रूप प्रसाधन लइ लवनइ रासि । रचन रची रबि रतन अगासी ।।
                                          मुख धुलकर हिमालय पर्वत के जैसे धवल मय हुवा ।  चन्द्रमा ने भी  फिर 
                                                        से रूप परिवर्तित कर लिया  । बनाव श्रृंगार की विभिन्न श्रेणियों की सुन्दर 
                                                        सामग्री  शोभा दे रही है । आकाश को भी रवि की कांति युक्त थोड़ी सी मणियाँ 
                                                        श्रृंगार प्रसाधन स्वरूप हैं ।

                                        कृत कर कंकित कुंतल कोरे । भँवर सँवर सहुँ छितिज के छोरे ।।
                                        हरि हरि सुध करि हथ धरि गोरे । डूबे ढोर  धर दिन ढल डोरे ।।
                                         वधु न बालों को संवार कर कंघे से उकेरे । छितिज के छोर भी दिन के लौटने के 
                                                       पश्चात संवर रहे हैं । वधु ने धीरे धीरे कर गोर वर्ण हस्त में कंकित धर  केश 
                                                       सुलझाए । (आकाश ने भी )दिन के ढल जाने अस्तगत आगत  संध्या की छटा 
                                                       (धूम्र लोहित ) रूपी डोरीयों को धारण किया ।

                                        सिखर धर बध बर सूत सारे । खन खन सिखरन साँझ सँवारे ।।
                                        श्रृंग मोहन मुकुती सिंगारे । नग नख नखत पथ मलिक तारे ।।
                                         अप्सरा ने शीश शिखा पर बड़ के वृक्ष के सूत्र के जैसे केश बांधे । गगन शिखर के 
                                                      खंड खंड में सांझ भी सँवर रही है । छोटी को चम्पक मुक्ता से श्रृंगार किया । संध्या ने भी 
                                                      उगस मार्ग पर तारों की माला उतर गए । 
   
                                         रंग बंग रच रति रतनारे । अरुन किरन कर गगन उपारे ।।
                                         केस कुंज कन कासित कैसे । तेज पुंज त्रस रजसित जैसे ।।
                                         वंगाल खंड का प्रचलित लाल सिंदूर मांग में सजाया । मानो वधु आकाश की लाल
                                                       किरणों को ही उखाड़ कर ले आई हो  । केश के वन समूह में सिंदूर के कण कैसे चमक रहे हैं 
                                                       जैसे छिद्र से आने वाली प्रकाश की तीव्र किरणों का समूह प्रकाशित होता हो ।।

                                          सोन सुहागा लाख दह  रयनी लाख अँजोर ।
                                          लोन लाख लख लख लह सजनी राख बहोर ।।
                                          स्वर्ण, सुहागा  से बहुंत अधिक चमकता है रात्री बहुंत सी चन्द्र किरणों से ।
                                                        सुन्दरता लाल रंग का लाख ( लाख से निर्मित चूड़ियों ) हिलता डुलता देख 
                                                        देख  सजनी संकलित कर ( हाथों में ) रही है ।।


                                           शुक्रवार, 14 दिसंबर, 2012                                                                      

                                            करन नयनन नक अधर सुधाए । कटि भुजबंध कर कोर सजाए ।। 
                                            भाल भृकुटि कुटिलक लख कारे । बिंब बिंदु बिच रंग सँवारे ।।
                                             नयन कर्ण नासिका एवं सुधा युक्त अधरों को व कटि बाजुबंध के कगारों को सजा कर 
                                                             माथे की भंवों को मोड़ दे लिख कर उकारा । सूर्य का प्रतिबिम्ब स्वरूप बिदिया को 
                                                              भवों के बिच में रंगते हुवे संवारा ।।
          
                                            चरण नियास पावड़ पैठे । पुर पाउर पउ पीठहिं बैठे ।।
                                            पोर पोरियन पोलकि पाँखे । गोर पोर पो  रछकहिं  राखे ।।
                                             चल कर चरण दान में चरण रख आसन पर बैठ  में पायल धारी । उंगली की बिछिया 
                                                             जो पंखों का समूह धरे हुवे है को गोरे पाँव की उँगलियों में पिरोकर पादुका में रख लिए 

                                            नयन लवन रूप सम्पद सारी । सराग सुरंग रंगन तारी ।।
                                             धर प्रसाधन धनवन धारी । लपझप लरझर कर बर कारी ।। 
                                               नयनों को सुन्दर लगाने वाली सुरुचिपूर्ण सारी रानी रंग में सुन्दर रंगी रंग बिरंगे
                                                               तारों  से युक्त सुरुचि पूर्ण रचना की हुई चमचमाती बहुंत प्रकार 
                                                                की कलाकारी से युक्त सांध्य गगन के जैसे  दिखाई दे रही है ।

                                                              पोट पटल पट पोत पूराए । हरि हरि हरुअर हिअर हिरकाए ।।
                                               हिर फिर कस कर कोरक करहीं । सुझबुझ रुझ भुज  सिखरन धरहीं ।।
                                                साड़ी की परतों की परतों को सुरुचि पूर्ण रचना कर धीरे धीरे हलके से कति पर सटाई ।
                                                                कटि से घुमाकर कसते हुवे किनारे कर बड़ी ही कुशलता पूर्वक कन्धों पर धारण की ।।
                                                                
                                                अंगन अंबर अंकक अंके । रूप अंतर धर मयी मयंके ।।
                                                अदभुद अनूप रूप अधि बोधी । पाद पदुम जनु पास पयोधी ।।
                                                 वस्त्र अभिकल्पक ने साड़ी का एक एक कोना सुरुचिपूर्वक रचा है । जिसे धारण करने से 
                                                                  से रूप अतिशय हो  परम साउन्दर्योपम शशि के स्वरूप हो गया ।

                                        बरन बरन बधु भेस भर दरस दरसन  दरपन 

                                                  तमि षीचि रूप धर तमी हर दर्प कल छेद हरन ।।

                                                वधु रंगबिरंगे वेश धारण कर  रूप दृश्य के साक्षात्कार हेतु दर्पण देख 

                                                         अप्सरा का रूप धरी यह वधु मानों चन्द्रमा की सौन्दर्योपमा एवं गर्व का हरण कर रही है  ।।


                                              शनि/रवि , 15/16 दिसंबर 2012                                                                

                                              बसन भेस भर भूषन राती । बधु बिभाति तेहिं मुख के भाँति ।।
                                              पद धवनित कर पिय पेठाहू । हरिहिं धरिहिं पीछु लइ भर बाहु ।।
                                   
                                               देखि नयन छबि दर्पन टेके । बोलहिं कवनि बधु लवनइ लेके ।।
                                               अरु तनि बेर भए तवहिं बिदाई । मम उर तप धर बिरहन ताईं ।।

                                               दिरिस सन्मुख पिय मुख मलिना । दरसबिपद दइ दरसन दीना ।।
                                               कहँ तहँ दीपित लोचन डारे । तवहु संग महु चलउ हमारे ।।

                                               suni बर हँस धर कनक कलाई । परिजन अस नहिं रीति बनाई ।।
                                                ते कहिं करू कोउ अरु उपाई । तुरतइ बधु के सुध सुम आई ।।

                                                तीर तीब्र तस तेज तरेरे । कुटी भृकुटि कस धनु धँस घेरे ।।
                                                भोर बखतइ जे रखि प्रतिभूति । जोर बतलइ तें रखि सइ बहुति ।।

                                                जे हिय बिरहन बदरइ छाहीं । बिध बिथुरित कर जर बरसाहीं ।।
                                                तनि बिनवन बहु बलि हर जाहीं । ऋतु बिनु रीति मलिहर सुनाहीं ।।

                                                पुनि पुनि बधु भुजंतर बध कसक पिय पास दंड ।
                                                झुठि मुठि रुठि सुठि जुगहिं नध मंडहिं मंडलक मंड ।।

No comments:

Post a Comment