Saturday, September 1, 2012

----- ।। बूँद-बूँद बिंब बृंद बृंदावन ।। -----


               गुरूवार, 30 अगस्त, 2012                                                        

                सदन    सुदर्शन  सुधित    सुधारा । सुथर  संतत  सुतनु  तर  तारा ।।
                सल    संवरण    साल    संस्तारा । सँवर   संवनन   सयन   सवारा ।।
          
                सदन सुमन सम  सपन   सलोना । सुत  सुत सुतनू सुध सुध सोना ।।
                सुमधुर   सुन्दर  सुमनित   सैया । सुमनोरज    उरज    सुमिरैय्या ।।

                रजत  रजसकन  रच  रच   राजे । रजनी  रमन   रचकर   विराजे ।।              
                रज रज रंजित  रचित  रचयिता । रजत  रजन  रुझन राग रनिता ।।

                सुम सुमुखी मणि मतिमत मंदा । बरन   बस   बाहु     सुभगानंदा ।।
                सुपथी पत   पद  पर्णक    पर्णी  । भुज   भर  भूषण  भूषित   भर्नी ।।

                रची    रजनीस  रच  रजनी सा । रक्तांक    अंग     रति    रतीसा ।।
                रूचि  रूचि  रूप  रज  रच राजा । लाली  ललित  ललामिन  लाजा ।।

                लव लवनीत लोचन  पथ  लोइ । कारन   करंजन   कोई   न  कोई ।।
                कोर करन करियन कलि कारा । दिग   दिग   दर्पन   देव   दुवारा ।।  

                कस  कंसक कतैक कनु कांधा । बल    बलिहारी   बालन    बांधा ।।
                बल  बल   ब्योत  बाल   ब्योरा । बलय  बिलसन   बहिंयाँ    बोरा ।।

                दन्त  बसन  रस  सुमन   सुगंधा । पलक  पथ मुकुर पिया प्रबंधा ।।              
                बुन   बुन    बेनी    बन   बहुगंधा । बिरच बिरझ बल बाल विबंधा ।।    

                कार करन कर धन भर माला । भात   माथ    गात    गोर   गाला ।।
                बाल   भर   बहु  बहलानुरागा । भोर    भर     भूषन      पुहुपरागा ।।

                रागी    रागन    रंग    रंगिनी । रज    रंजनी        राग     रंगीनी ।।
                रूपलवन  रूपी  रूपरूप रुपिका । रूचि रूचि रचित रच रचत रचिता ।।

            
                अलिक   अलोकि  अलंकरण  आरू  चारु   आवरण ।
                अलि  अलक पलक अय शयन अरु अरुष आरोहण ।।
                                             
                बूँद बूँद बिम्बित बिम्ब बृंद बृत बृन्दावन ।
                बेध  बेध  बेनी  बिंध श्रिया श्रृंगार सुमन ।।                     
              

                शनिवार, 01 सितम्बर, 2012                                                         

                लसित  ललित  लव लावन लतिका । लौकन  लवकित  लवंग  कलिका ।।  
                लता   कुंज      मणि तरु ललंतिका । लट  ललाट  पट  लल  ललाटिका ।। 

                लट  लट   लटकन  लट  लटकीला । लग  आलिंगन   अभरण   लीला ।।
                लग  लघु  चन्दन  लग  लक रेखा । लाख   भवन     लखराऊँ    देखा ।।

                लोहितक    लोह   चन्दन    रागा । लालन   लिंगन    लोलन    लागा ।।
                लोह  जित  मुक्तिक राजक  पाशा । लहन   लहक  लल  लालस  लासा ।।

                लख  लख   लाख लखेर  लखौरी । कोर   कोर    कर    कौरी    कौरी ।।
                भरित भरित  भर भरू  भारुआना । मनकन   मन  ही  मन  मनमाना ।।

                मुख्य    राज    आभूषण    शाला । रतन       दीप   द्रुम  बाहु   माला ।।

                रवि प्रिय मणि लोचन बिम्ब सारथि सुअन सुन्दर ।
                रत्न   तीर्थ   चंचल   चक्र   वंशी  केतु   कुल   कर ।।

                लख लख लक्त लगन बंधि लाख लाख लिख लेख ।

                लेखिन  लिख  लेखासंधि  लिखी  लाख   आलेख ।।    


               रविवार, 02 सितम्बर , 2012                                                               

               लकत लक लक अलकतक लागा । लामबं   लंकन    लंगन   लाँघा ।।
               लप  लप  लपझप  लिपट  लपेटा । लों  लउ  लउलक  लोइन   लेटा ।।

               कटि  कटंकट कोटिक कढ  काय । निकस निकुंच निकट निकेचाय ।।
               लंभन  लंक   लगन  लग   लूगा । लमकन   लामन   लोभन  लूभा ।। 

               लाल  ललाम  लव लाल ललामी । लहर  लसन  लय  लाली  लामी ।।
               लोल  लाल  लौ   लोलक  लोला । लोय   लोर   लोरन    ललकोला ।।

               अरुण  किरण कर उर उपरागा । शिख शिखर  धर दीवट  सुहागा ।।
               सरर  सरीर   सर  सूरज माथा । सदन    सिंदूर    सुन्दर    नाथा ।।


               उत उत्पट उत्पलिन उत्तरासंग उध उधान ।
               उत्तरीय  उतरोतर  उत्संग उतलित उतान ।।      

               वृन्द  वृन्द  वृंदा  वदन  वृत  वेणु  वृन्दावन ।
               मुख मंडल वाद्य वसन श्रावक श्रुत्धर श्रवन ।।   


              सोमवार, 03 सितम्बर , 2012                                                                

              पुर  पुर   नुपुर   मुकुर  लुकंजन । सजन  सुअंजन सिद्ध सुदि लोचन ।।
              दोष  बिभंजन   नयन   निरंजन । मृदुल  मृदुल  मल  मंजुल  अंजन ।।

              लव   लवलीन   ललित ललिताई । लौ   लौं     लाइ     लवन  ललाई ।।
              लगी  लगावट   लगनवट   लाइ । लाग   लगनधर   लगन    लगाई ।।

              भुजबंध    पूरण    मंडल    बानि । मौली     मूल    मंगल  प्रद  पानि ।।
              मन    मनिहार   मध्यम   मुंदरी । सुधन     साधन     सुन्दर  सुंदरी ।।

              ललित   पल्लव   लुरकी   लुरकन । लयन   लगन   लंभन  लघु  चंदन ।।
              लच लच लचकन लड़ लड़ लड़ियाँ । लहर    ललरी   लड़ी   लरझरिया ।। 


              ललित  लोचन   लोकाराधन  लव   लुकंजन   लोकायन ।
              लोलक लवकन ललक लरजन लयन लोयन लोहितिमन् ।।
              लव  लवणाकर  लहर  लरझर  लयन लवण लवणालया ।
              लहरी  लहन  लहक  लहकन  लहरा  लहालह  लहरिया ।।  
               मंद  मंद  मंद्कांति  मंद्कांत  मिलिंद ।
              बूँद बूँद बिंब भ्रांति मुहु: मुकुर अरविंद ।। 


              मंगलवार, 04 सितम्बर , 2012                                                                        

            मनिमत   कुंडल    काचन    कारा । दीप   धनुष   कंकन   कर  माढ़ा ।।
            मंजरी    बंध     मंडप      मनीवक । मनि सर स्याम यष्टि मनीचक ।।

            कोमल   कोमल   कामिन    काया । काम कला  जित रूप कुमलाया ।।
            गंध    मोहिनी    रस    बह    राजा । सुमन   सुगंधु   सुमधुर   साजा ।।

            पुष्प    रचन    रज    शेखर    गंधा । पेशल  भूषित  भव सार सुगंधा ।।
            सुधाश्रव  भवन  सित सदन सिन्धु । सद   सुनंदिनी   सुधा  सुखगंधु ।।

            अलंकन  अलि  प्रिय  कुल संकुला । पूरव   पथ   पद    पूरन    फूला ।।
            सोन  पदम्  मनि   सिख   सिंगारा । छनक झनक नख चरण उतारा ।।

            मंडल मंडल मंडलक  मंडन  मदन  मंदिर ।
            माँग मंडित मांडलिक मृदुल मृदुल मंजीर ।।

            उलट घटक घट जल नहीं उलट काल नहीं कल ।

            कार कार करत करतल कुलंभर कुल  कज्जल ।।

            

            बुधवार, 05 सितम्बर , 2012                                                                               


             सुरनदी    नाह    पथ   पतिचापा । प्रिय   पुर  प्रिया  भानु  प्रतापा ।।

             सुरभूप   भवन   बल   बन बाला । सकल   सिंगार  सत  सुरताला ।।

             सुखसाधन सदन सयन सयिता । सौभाग रति रत सजन सहिता ।।

             सुभ  सुभा  सुभग  भाग  समाई । सुभुज भर भूति भव भानु भाइ ।।

             सदन   सतकृत  सतपदी   रंगी । सकेत  निकेतन  सकेतन संगी ।।

             संकलन  कारी  कार  कर सौहा । संकुचन  कुचित  कुल परसौहाँ ।।

             सट  सट  सटपट  संजुत सोंही । सज सज सजनी साजन सँजोइ ।।

             लोचनांचल   पथ लोचन माला । लाज   लजवंती  लोहित   लाला ।। 

                                                                                  
             सौंधे  सौधे  सद  सयन  सौंधे  सौंधे   सुमन ।।
             सौंध सजी सजनी सजन सौंधे सजे सजन ।।

             सौ सौ गंधिका गंधन सौ सौ सुमन सुगंध ।।
             संग संग  सोहन सजन संगिनी संग संग ।।

           
             गुरूवार, 06 सितम्बर , 2012                                                                              
           

             श्रीश  युत  वर  रंग  रवन  श्री श्री  श्रीय श्रृंगार ।
             श्रीबंधु  धर  संज्ञ   सवन   श्री श्री   शयनागार ।।

             सौर  संजनन  सदंजन  सुदेव  द्युत  दृक  देश । 
             सुदर्शना    दर्श    दर्शन   सुर   सुन्दर सन्देश ।। 

             सुरक्त रंग सुरतिवंत  ललित  लावन  लिलार ।
             मंडन मंडित मणिमंत मंडल  मणि मनिहार ।।   

             सुवासस  वास  विधु  वदन  श्रीक शोण श्रृंगार ।
             सुधासू  सूति  सित  सदन  अधर धार आधार ।।

             सौंधे सौंधे   सत  वदन  सौंधा सौंधा सत सार ।
             सौंधे सौंधे सत  सजन अधि अधीर अभिसार ।।

             सुख बद्ध बंध  दंत  वसन  सौं सौं  सुहनु सुंदर ।
             सौं सहुँ सजन सुधा सदन सौं सौं सहुँ सुधाधर ।।

             सुरक्त  रंग  रंगन   धर  सौं सौं  सुहनु    सुंदर ।
             सुधाधार सीकर अधर सौं सौं सहुँ सजन कर ।।


             शुक्रवार, 07 सितम्बर , 2012                                                                              

             समुदसार     नवनीतक      सोषा । सुधासदन       संधन      संतोषा ।।
             ससी  प्रिय  प्रभा  मुख  रस  रेखा । सुललित  लाभ  लभा  लभ लेखा ।।

             काप   कंपन    कंठ    कर  काँधा । प्रणयवचन    भर    बंधन   बांधा ।।
             पलक उदकगिर चरण  धर छाए । बिंदु   हार   कंठ     घुँघरर    घाए ।।

             नयन    निमेष   नीर   निरमाना । संसपत    सबद   सयन   सयाना ।।
             अगुन सगुन गुन गिनगिन गाना । छल छल झल कर छोर न जाना ।।
         
             चाष   जोर   कर   कोटिस    कोरा । अरु  अरुणकर  करून   करजोरा ।।
             समुद  मुदकत   समुख   समुझाई । सुलग  लगन  उलझन  सुलझाई ।।

             रघुकुल   रित   सदा   चली    आई । प्राण   जाए   पर  वचन  न  जाई ।।   ( तुलसी दास )


             प्रियकृत कारी कलत्र कर वचन वादिनी वदन ।
             भाव  भाषी   प्रेप्सु   वर    प्रियंवदा    निवेदन ।। 

             प्रियतम प्रणिधि प्रणयवचन प्रणिसित प्रति प्रणिधान ।
             प्रीति      रीति      दान     वर्धन       प्राणाधार   प्रधान ।।


             शनिवार, 08 सितम्बर , 2012                                                                                        


             श्रवन सुखकरन वदन गमन श्रुति । भारावतारन   भव    भरू   भूति ।।
             अरु   आरू   अरुनि    उंदन    रुंधा । अरस परस रिजु उक्षरन अरुंधा  ।।

             पुजपद   पुजवन   पी   पद    पूरा । नव  नयन  निक्षन कपोल कपूरा ।।
             नीर  निमग्न  निकुंजन  निमिषा । नयनु  निबरन निमुंदन निमिखा ।।

             प्रेमालिंगन    अलि       प्रियांगना । अधर    उतर    अधररज   रंगना ।।
             सगुन  सकल   संगन    सुखरासी । अति   उतंग   उत   अंगन  कासी ।।

             धनिक तनिक तनी तनुमध्यिका । तनिमय तनकन तनीत  धनिका ।।
             तनबन     तरुन       तनुकेशवंगी । तरलनयन    तन   तान     तरंगी ।।

            तरन   तरबन   तर   तीर   तरंती । धराधर   अभिहर   रत  रति  रंति ।।
            अपरासपरुष   उष    रूप    अरुषा । अकरषाकरखन     उससन    उषा ।। 



            अवगुंफित गूहन गुंठन गुठित   गुठिका   गोट ।
            आकंठ कुंठित कुंठन कंठ कंठ कटि ओट ओठ ।।

            आकर्ष  कर्षक  कर्षण अरधन अररि अलिंद  ।
            अर्धांगिनी     धारण    अधर      नयनारविंद ।।
              

            रविवार, 09 सितम्बर , 2012                                                                                    


           रेत    रितत    रंग     रंग     रेनी । रसराज      वास      सीकर  श्रेनी ।।
           उरसन   उसरन   बहियन  जोरा । उपर   तर    चर    रसवती  पौरा ।।

           सदन     सुखभोजन     सूदसाला । रसभरी    फल    व्यंजन  माला ।।
           यथाक्षत   यत  कृत  कर्म  काला । भाग  बोध  बुद्धि   रूचि   रसाला ।।

           पुरपुर पुरियन पुलपुल पुलिहोरा । पुवन      पुरावन    पूरण    पोरा ।।
           पोषक   पोषन     पुरहन      पोई । पुर    पुरवाहन  रसिक     रसोई ।।

           पादावसेचन             पयसवाना  । अन्नकाल गति पति जल दाना ।।
           पकति   पकवान   पाकन   पोषा । पुरसचरण     पुर    पंच  परोसा ।।


           भक्त  भक्तपुलाक   कंस   भक्त  भक्ताकांक्ष ।
           भोग योग यत यथांश भोज भोग भगवंत ।।
     
           भजन भजन भजनानंद भोग भाग भगवंत ।
           भय  भोज   भोजनानंद  भवभोग  भागवंत ।।   


            सितम्बर, 10 सितम्बर , 2012                                                                                   

            पाति   पाठ    पय   पयसय   पूरा । भव   भर   भोजन   भय  भरपूरा ।।

            पुर   परिनिसत   पूरन     पूरिता । तोष   पोश   आहार       बहुलिता ।।

            बधु   बदन   धर  कर  करी कौरा । रासन   रसियन   रस     रसकोरा ।।

            रसे  रसे   रिस   रस   रस   रासा । रसिक   रसाइन   रसि   रसवासा ।।

            फलफुल भुज भोग भूमि भरिता । भूत  कृत  करत  फलत   फलीता ।।

            फूल  मूल  फल   फोकल   फारा । फाँक   फाँक   फल   केसर    हारा ।।

            मढ़ मढ़ मटकन मट्ठ  मुष्टिका । मुखन   मुखियन   माखन   मीठा ।।
            मुख  धावन  प्रिय  भूषण वासा । मिषिकन  मिश्रन मीस मुहु साँसा ।।



            रसवाद   वास    रसाभास    रास    रस   रसनेंद्रियम् ।
            रूचि रुचित रच रुच्य रुचिष्य रूचि कर कारी वर्द्धनम् ।।
            रस   रसेश्वर    रसिकेश्वर    रसराधिक   रसात्मकम् ।
            रस   राग   रंजन   रंग   रंगन  अरुण  रागिनच्छनम् ।।

            आस्वादित  स्वादासन   आहारी  हार  हर ।
            आसना सनी स्वादन सन्न सदन दान दर ।।
             रास   रस   रासेश्वरी   रासेरस  रस रास ।
            रसे रसे रसिकेश्वर रस्कास रासविलास ।। 


             मंगलवार, 11 सितम्बर , 2012                                                                            
                        
             बर बहु बरिअन  बाहु  बैसाना । बहिस  बहिसचर बहि  बहराना ।।
             बहल  बहोरन   बिहरन   हारा । बिहँस हँस लसन बसन बैसारा ।।


             गोव   गराँवन   गोधन  गोता । सीर   सिपावन  जोगन   जोता ।।         
             गोधुली  नाथ  पुर मति  मंता । बहिरगमन  गति  गंतिक गंता ।।
       

             गवन   गठन   चरन   चौबारा ।  गत   गतारिन   गोपुर  उतारा ।।
             सजन संलगन सराहन सिना । सल्लज  लाजन  संग   संगिना ।।

             बड़कन  बटोर  बड़क  बड़ौना । बड़   बुढ़न  बचन  बौड़न  बौना ।।
             बड़क  बढ़ावन   बाढ़    बड़ाई । बटन     बटाउ     गाड़ी     बढ़ाई ।। 


             पोत पोतपति  निर्मान   पीत  पीत  परिधान ।
             पद पद पादपद्म त्रान  पत्ति पत्ति पतत प्रतान ।।  
         
             प्रतिमंडित मुख मान मित  रूप रूपक रथ निधान ।
             विरंच   रजस  रजन रचित  प्रधि परिणाह  प्रधान  ।।


             बुधवार, 12 सितम्बर  , 2012                                                                              
          
             सीलु   सीमंतित    सीरू   रंगा । सीसज  सज  सज सजनु सुरंगा ।।
             संग    संगायन    संगव  बेला । सुमन   संगम   संगमित   मेला ।।
        
             लपट  सरट  सरपट   सरवारा । सर  सर  सरनि सारनिक सारा ।।
             रथय   रथैया   कारू      करैया । सूत      संचारू    चारु     चरैया ।।

             रमन  यवन  लहन बहनु बाहा । बह  बह  बाहक  बही बहिलाहा ।।
             हरि  हरि हँकबर लहर लहासी । लचकन  लाँघन लहकन कासी ।।

             सरयु   समनंतर    समवतारा । सरस   सरासर  सर  सर  सारा ।।
             बाहुबल   दल   प्रलंब   प्रसारा । कोटर  सिखर  सिर तरन  धारा ।।


             हरिजान गण गंध गीत वाहन वासर वास ।
             पद पर्ण पुर पैड़ी प्रीत नाथ दिश देव दास ।।

             सरक सरथ सारथि सार सारवत सार नाथ ।
             सारणिक सहचर चार सरण सारथ्य  साथ ।।


             गुरूवार, 13 सितम्बर , 2012                                                                              


              तरी   तरुमंडित   तरियन   तंति । तरित    तरंगित   तार    तरंती ।।
              तल  तल  तलहट  ताल   तलैया । तीर    तारायन    तीर     तरैया ।।

              तर तर तरिक  तरि तरि तरिका ।  तलक  तक  तूल ताल तूलिका ।।
              तर तर तरबन तरि तरि  तरिता । सरा सर सरस सरि सर सरिता ।।

              सार सरसिका  सरि सर सरिका । सर सर सरसिक सुरस सारिका ।।
              सर  सर  सीतल  सरल  समीरा । सरर   सरी   सर   सीर    सरीरा ।।

              सरसी  सरसिज  सरस  सरोजी । सरि  सयोजन  सरिस   सयोजी ।।
              सरजन   जीवन सर सर सरजा । सिरा  सरीर   सरी   सर   सुरजा ।।


               विरंच   रचित   रज   रंजन   रति  रत रद रथ यान ।
               विरम   रमन    मनोरंजन   विहंग    हरण    व्यान ।।

              सर सर  सरयु  सस्य  शील  सरस्वती  सुर  सिन्धु ।
              सरि सरि सरल सरिल सलिल सरितपति सरोविंदु ।। 
             

                           
              सींक    सींक   सिकतोत्तर  सीप  सीप सीपसुत ।
              सीकर  सागरसुता  कर  सिकर   साकर  स्यूत ।।

              सलिलधर भर मुक आकर दायिन वाट निषेक ।
              रय  राशि  सरित  सर्वकर  शेखर  जलाभिषेक ।।


               शुक्रवार, 14 सितम्बर, 2012                                                                        


                नग नाग नगजा नग नगरौका । नगर   नागरी    गगन    नगौका ।।
                नभ  नभसंगम नभस  नभौका । नौ     नौकायन     नयना    नौका ।।

                नावय   नावी   नवां   नाविका । नौकरम   कारन   चरण   जीविका ।।
                नाल   नालिक   नार  नारिका । नउलि  नलिनी  नव  नवल नलिका ।।

               निसित सीथ भर  भूषण भाला । नभ  नछ्त  चक  नेमि  पथ माला ।।
               नयन  निरंजन  नील   निराला । नभस   चमस   चाष  नाभि नाला ।।

               नग    नौरंगी    नक    नौरंगा । नभ   निलंगा    नील        नभंगा ।।
               निखरव निघरघट नगर  वासा । नक  नख नग कर निकर निकासा ।।

               निस्तर  नभचर खरकर लाला । नीलांबर       निसिकर     निकाला ।।
               निसिकर  निषप्रकासन  कासा । नेड़े      नीड     निढाल     अकासा ।।  
             
            
               नव  नव  नवीन    नौतरण   नव   नाव   नावनीत ।
               नवनि   नवतन   नवनूतन   नौत    नवां  नवनीत ।।

               तड़  तड़  तडित  तडित्वान  तड़ाक  तड़ाग तटक ।
               तत्त्व   दर्श   दृष्टि    ज्ञान    तारायण   तार   तक ।।

               निकर निखर निगर खरकर नक्त निकेत  नीकाश ।
               नग नग नगर नख नक् कर नीक निखर्व निकास ।।

               विभा   भावन   भव   भान   भ्रांत   भ्राजित  भंग ।
               विहारी   हाय   हँस   हान   वियत  व्यान  विहंग ।।    


               शनिवार, 15 सितम्बर , 2012                                                                          
            

               हारिल    हारिन   हरि   हरकार । हार    हराहरि  हिय  हियहारा ।।
               हँस  हँस  हँसनी  हरि हरि हेला । हुलहुली    हेलि    हेलन   मेला ।।

               हिमारून  अरत  अवहय   हारा । अयती   अराति   अरि अवहारा ।।
               हथाहथ  हितत  हंतत   हिनांसु । हुमकन  हुमसन  हेमन हिमांसु ।।

               हुलन   हयन  हरि  हेरान  फेरा । हंसारोहन       होरन         हेरा ।।
               हराहरि   हरक    हरएँ   हुलैया । हिलान  हलोरन  हलकन   हैया ।।

               हंसपदी  पद   पक्ष  मुख  माला । हिल  हिलकोरन  हंसक   हाला ।।
               हंसकांति   गमन  गति  गमना । हंसाधिरोहनी    रथ      यमना ।

               हंसयान   रव    राजन     वाहा । हथलग्गन    लपकन    लेवाहा ।।
               हँस  हँस  हरषन   हंसल   हेला । हालत हिल्लोलत हलुक हँसेला ।।

               हिरनयदा बरन  सकल संकासा । बूँद   बिंदु    बीर     बाहोकासा ।।
               हिरनयकार करित कंठन काँसा । हिर हिर हिरकन हिरदय वासा ।।

         
               विदित विदिधित दूर दिश विधारण विधिवाहन ।
               विधु  दीपित  दीप  वर्हिस  विधूत   केश  वसन ।।

               व्यथित विथारित विथकन विदाय वेदवाहन ।
               व्यापित  व्यपेताधीर  व्यपगम  गति गमन ।।   


                रविवार, 16 सितम्बर, 2012                                                                          


                हस्त गिरि गम चपल तल ताला । बिंबन वरतन वर मनि  माला ।।
                बरक   बराटक   बरट    बटीका । वात रथ रुष गामिन  वाटिका ।।

               बहल  बह  बहनु   बहुल  बहावा । बर   बरजोरन  बरकन   बावा ।।
               बह  बहु  बहरन   बाहिनी   बाहु । रोहक   रोहन   रोहिनी   राहु  ।।

               अवस   अवसन  अवसंजन उषा । रुरइत   रोहित   रुषन  अरुषा ।।
               रव   रय   रोलन   रौरन   रोरी । रहचह   रहँचट   रसन  रसौरी ।।

               रंतुत      रंदन     रेतस    रीता । रीझन रलीयन रुनझुन रुनिता ।।
               हचक   हचक   हंस    हरहराई । हरि    हरशेखर    हरि    हराई ।।


               वह  वाह  वहन वाहा वाहन वहा वहिस्य वाह्यी ।
               वाहला  वाहि  वहला  वाही  वाह्य   वाहावाहवी ।।
               वाहनिक वाहिक  वाहनीक  वाहुक  वाह्यांतारा ।
               वारि वर्णक प्रवाह पथिक धानी धारा विहारया ।।

               वात  तरण वातावरण तंतरी ( तन तंत्र ) तरण तान ।
               तरणि  तरन  तरणी  तरण   तातन   तरण  वितान ।।

               तर  तर  तरणी   तरण   तल  तार  तार तरण तान ।
               तीर    तीर    तूलमतूल    तुर   तुर   तूल    वितान ।। 


              सोमवार, 17 सितम्बर, 2012                                                                         

       
             कल कल कल्लर कुलि किलवारी । कलरव      नाद     कल्लोल      कारी ।।
             कूल    कुलीनस    कूल   कूलिनी । कोर     कुरैनन       कोर        कुरीनी ।।

             खेलनकानन     कौतुक     सीला । कोरन     करियन     किसनी     लीला ।।

             करकलस   गह   तल तली ताला । करज    पात      धर     मुक्ता    माला ।।

             करछ   कर   छुलन  कर करछैया । कछु   कर    छाया     कछु    करछैयाँ ।।

             कह   कह   करना   कर करबरना । कल   कल   कलाधर  कलकल  करना ।।

             कस कय करधन कल  कय करना । कसकय    करगन   कसकय    कलना ।।

             कइ  कइ  कसनई   करष करषना । कसक     कसकन     कसनी    कसना ।।

             कसकन   काँखन    कासन   काँधा । काँठ   काँप    कपन     कमन   बाँधा ।।

             कल   कल   लंकन   कल  कलंकुरा । करक   कलंबिक     अलक     अंकुरा ।।

             कलि    कलिकन    कहकन    काई । कलाकार     निधि    करीत    कलाई ।।

             कलि कलि कलिकन कलियन काया । कलाविकल    कल  कलि  कलिकाया ।।

             कच   कचनार   कवच   कचपचिया । कोमल   को मल   कमलिन कलिया ।।

             कर   कर     कैरव     कपोलनुरागा । कर     कर    कैवर     कपोलनरागा ।।
                   
             खगमनि   मध्या   तिलकन   गोला । खिल खिल खिलिदन खोलिन खोला ।।
             खट     खट      खेवट     खेवनहारा । खेवन     खेवा     खन        खंकारा ।।      

         
             कमल  कमली  कमलेक्षण कमलनाल नयन वन ।
             कमल कमला कमलासन कमलनाभ अक्ष कमन ।।

             कमलकांत अलया आसन कमलिनिकांत अयन ।
             कमलनयन  वन  कमन  कमलाकार  वन   वन ।।


             मंगलवार, 18 सितम्बर , 2012                                                                         


              कांतन   काँखन   कंकन    काना । कर   कंठ   काँधन   कनमनाना ।।
              कुलि  कनउँगली कन  कनियाना । कनखी  कनखन    कनखियाना ।।

              कटुक   कटूकति   कड़क   कडाई । कठुरन  कड़कन  कडु  कडुआई ।।
              कट  कट  कटखन  कटु कड़िहारा । कड़  कड़  कड़वा कठु कटियारा ।।

             करू करू करुरर करकर करुआरा । करूँ  करूँ  करुन  करे  करुवारा ।।
             करर   करर   कर  करी    करारी । करह  करह  कर  करबर कारी ।।

             कटि कटि  कटियन  काट  कटारा । उठा   कंठाक     पठा    कठारा ।।
             कड़कन    कड़री   कुड़कुड़  कोड़ा । कुड़नी     कोढ़ा    कोटिकजोड़ा ।।
          
             कटकन  कटखन  कटि  कटियाई । कटु  कटु  कटुकन कटक कटाई ।।
             कइ     काइयाँ    काई    न  काई । कउ    कहु   कौआ   काईं  काईं ।।
  
             कान कनकनान कन कनिहारा । कहु  कहु कहुकन  कव  कलिहारा ।।
             करली कनियाँ कनखि  निहारा । करि यन करियन कलि  करियारा ।।


             केतन   केतन   केतुमत  केतकी  केत  केत ।
             कोत कोत कौतुक कतक कौथ कौथ कतेक ।।

             कर्ण   गोचर   देव   धार   पूरक  पूर  प्रयाग ।
             कर्ण कर्णिक कोणकार कण कनकप्रभ पराग ।।   


             बुधवार, 19 सितम्बर , 2012                                                                                  


             केलि   सदन   रंग   केसू  केहि । काम  अगन  दहन  कमन देही ।।
             कैंकर  कै  कर   कैंवर  कै  कइ । करष   करषन   करीषिना  देइ ।।

             करम   करी   कर  कोरन कोरू । करभन  करबन  कर  करभोरु ।।
             करि   करहंसन    करी   कराई । करिपन    करिपा   करिपानाई ।।

             करू करू करू न करी करी कही । करार  करन   करारन   करहिं ।।
             किरिन केतु कर किरि ना करई ।  किरमीर किरमी किरत न कई ।।

             करह   करहाट  करही   करूवा । कहन  कहनाउत  कही  कहुआ ।।
             कु  दरसन   दास   दावन   दाईं । धातु   धान  दिन दाम  न  दाई ।।
   
             कोन  कोन   कन  कोरन   कैरा । केवर    केसर     केहरि    केरा ।।
             गेड़न     गेयन        खेवनहारा । गहनी    गेहन    गलगह  डारा ।।

             करन    कनारा    कोरन  कारा ।  कागा   कागर  कइन  कगारा ।।
             करनिकार     करनोपकरनिका । करन  कनिका  कार  करनिका ।।

             करनी  करिता  कार कर किता । कर करतिन करितारथ करिता ।।
             कयकर  कोरा  कतकन  कोता । कय कर कत कन कतर ब्योता ।।

             कार  करतार  करनिक   कौना । करकस  करकट किना करौना ।।
             करकर    करकेतन    करदौना । करनधार    करधन  करकौना ।।

             कृपा    कांत   सिन्धु   निधाना । करित  काम  करित कर दाना ।।

             कुहुक  कुहुक  कुहकनी  कहु कुजन कूजित कूज ।
             कुचकुचवा कुचकुचन कछु कारूक कारज करूज ।।

             कातन   कातन   कतवान   काथ  काथनी कथन ।
             कतरा   कतरा   कतरान   कतैक   कतैक  कतन ।।  


             गुरूवार, 20 सितम्बर , 2012                                                                        

          
             करन   करमने    करमठ     कारा । करमिन  करम  करमना  धारा ।।
             कारय    करम    करा  कर  कोरा । कौड़ी    जोर   कोटिजय   जोरा ।।

             खनक  गनक गन खरियन खरिया । करकन करखन करगन करिया ।।
             खट     खटा    खट   खेवटय खेवा । कनकन  खनखन  गनगन देवा ।।

             करकट    करुवट    कटुवन   काटा । कौड़ी    कौनी     बोअन  बाँटा ।।
             खनक खना खन खिल खिल खोला । गाँठ  काट  घट  खाट खटोला ।।

              करपर    टेकन    कर    पर  टीका । काट   कूट  कार   कारपटिका ।।
              कटक    कटंकट    कुटल  कुटिका । कोटि कोटि कट करन कटिका ।।

              कर   कारिकन   कर    करचूकता । कर  कारितन  कर करमूकता ।।
              खीचन    खेंचन    खोचन   खांचा । गजबदन  गन गजानन बांचा ।।

              खटुकन   खटकन   खातक खाता । खटन खटावन खटुवन  खाटा ।।
              करद    करदन   करदमन   काँदा । कोर  कोर  करीर   कर  राँधा ।।

              करी    करीली     करी     करौली । कोमल कोलक  कौरन  कौली ।।
              करोन     करील   करुर     करेला । कंदमूलन      कंदली     केला ।।

              काठ   काड़   कर   काटन  काछा । करकर   अंधुक   कर  आंचा ।।
              कोलकंद    गिर    कोलक    कूरा । करक चरक  करचूरक   चूरा ।।

              करन    करौंजी    कारन  करौंदा । कौचन   कोंदा  कोरक  औंदा ।।
              कोटि   कोटि   कटकोटक   कोटा । कर  करारन  करोटन  ओटा ।।

             कंदन   खदन   खद    खदखदाना । खादय खादिन खादन  खाना ।।


   
             कन्ना  कन्ना  कनक  कण कनक कन्ना कण कण ।
             कनक कनकी कुदन्न कण कनक कनखी कण कण ।।

              खेवट  खेवन  खन  खनन खिँच खिँच खोचन खाँच ।
              खरचन  खन   खेचरान्न   खद  खद  खादन आँच ।। 


               कनक कण कुंदन कुदन्न कंदला कदली कन ।
               कुंदु  कुंदम   कूद   कुदन  कंदरा  कदरा गन ।।


               कंठ   कंठ   कंठेकाल    कंठीधार    कंठ्य ।
               कंठकूणिका    श्री    ताल   कंठी  कंठोष्ठय ।।


              शुक्रवार,21 सितम्बर 2012                                                                  


              गोड़   गोड़    गड़      गोड़ापाई । गाँठन गाँठ गोड़िया गुन  गाई ।।
              गहन   गसन   गहबर गहरावा । गल गल गाजन गलगल गावा ।।

              गहगह गाहक गहगह  गहियाँ । गन गुनगाहक गन  गलबहियाँ ।।

              गहपरबंधन        देवन      देई । गह     गह    गहाराम    बैदेही ।।

              पाट    पाट   पट  पाटन  ओटा । पोट   पाटलिक   पोटक   पोटा ।।

              पुरोगमन     गम   पुर  पुरोटी । पुर     परिपूरन     पूर   पुरौती ।।

              पोतपत    बाहु   भारन   भारा । पो    पो    पोता       पूरनपारा ।।

              पूरन    पातक   योबन सरिता । पुर    पूरयिता   पूर      पूरिता ।।


              पाति   पाथ   पद    पादालिंदा । पाँव    पावनी     पावन    वृंदा ।।

              पानिगहन    परनयिनी   मूला । गरहित  पद पुट पदमन  धूला ।।

              पंक   करवट   जनम   जोहारा । पाउँ   पउनार   पय   पइसारा ।।

              पंथी    गाहन    लागन   पँवरी । पवरन  पाहन   पायन  भँवरी ।।

              पाँव   धरन   धर   पवर  पवाई । पल    पलोवन   पल्लौ   पाई ।।
              पाँक पाँक पग पगारा पगनियाँ । पग पखारन पंखन  पँखनियाँ ।।

              पखपुट    मूल    बहनु बवराना । पखुरन पगुरन पग  पखराना ।।

              पलकन   पावड़    पांसु    पाही । पाव  पाव पावन पवन  पवाहिं ।।

              पारन      पारा        पारनपारा । पालय     पालन   पालनहारा ।।

              पारक    पारख    पारग   पाया । पारगमन  कर   पार लगाया ।।
               
              पंकजासन       पग      पंकारा । पंक सुकति पख पंगति  धारा ।। 
              पदनियास   बरन  दलन धामा । पदामांतर     कर     परनामा ।।


             
              धान्य कल्क कोश चार शैल संग्रह सार ।
              वर्धन  वनि  वर्ग  उधार  दानी  वारंवार ।।

              पायक   पारक   पारक्य   पारा पारावार ।
              पाय   पाय   पारीणह्य   पारु पार्वत  पार ।।

              पत  पत पदक पादांत पनपन पंकज पंक ।
              पद   पद   पादाक्रांत   पथ  पथ   पादांक ।।

              घंटी   घंटी   घाटिया  घाट  घाट  श्री राम ।
              घट्ट घट्ट घटक घुटुआ घटा घूँघट श्याम ।।
      

             शनिवार, 22 सितम्बर, 2012                                                               


             पछी   पिछौरन   पछी   पछाहाँ । पच्छी   पछीन  पच्छी पछु छाहाँ ।।
             पच्छी    पछुवँन   पूंछन   पावाँ । पिछु पिछु पिछलन पिच्छल पाँहा ।।

             निचु निचु निचुरन चरना चोला । चाप  चपल  चपवन  जल  झोला ।।
             निर  निरधरण  नीर  निरधारा । नदियन  निथरन  नदर   निथारा ।।

             निजकन कुंजन चयन चित चाई । छक्कन  छादन   छत  छतछाई ।।
             निसु  षदन  षध   षंगथि  षादा  । निसि  सीथ सितल साधन साधा ।।

             वेस    निवेसन     वेषय     वेसा । निसारतन    रत   नवन  निवेसा ।।
             निसर  निसितरन  सारन  सारा । निसित    निस्तार   तारन  तारा ।।  

          
             चित चितवन चितरनहार चित्त चित्त चहुँओर ।
             चरण चरण चारण चार चित्तज चारी चोर ।।

             चितारोहण चित चित्तज चारण चारु चरथ ।
             चरणास्कंदन रज रज अंतानुगम चित्ररथ ।। 

             विचित्र देह रूप चित्र रथ लोचन वन विन्यास ।
             कर्म  कर्मन  कार  कृत अंकित अंक आकाश ।।

             कपिप्रभु कर कृपावंत  कृत  कालदास दान ।
             महामात्य महिम मंत कृतज्ञ कौन निधान ।।

            सच संच चारु चाष चरण संच चय चयन चार ।
            सच  संच  चारी  चारण  चितन  चिंतानाचार ।।

            विडंबी   डंबय   डंबन   टपक  टपी  तप ठंक ।
            ज्ञान  केवल  पति पद घन टंकित टंकन टंक ।।


          रविवार, 23 सितम्बर, 2012                                                              


           डहर    डहर   डल डहरन      ढारा । डग   डग  डगरन   डगर  दगारा ।।
           ठहर    डहकन     डहडहन    हारा । डारन     डासन      डेरन    डारा ।।

           तमोधर     हर     तमहर     ताला । तरुन    तमाली   तरन   तमाला ।।

           तरुमंडित    राजन     वर     सायी । तरु    तर  तरुनक  तरी तरुनाई ।।

           तरुवन     तीर        तरेरन    तारी । तरवन    तारण   तरु   तरहारी ।।

           तदगत   भव  रूप   तलछट  छाया । तपोधाम    भूमि    वन  भवाया ।।

           क्षीरनीर     गिर      घेर     घिराई । करोड    पालन    माल    बनाई ।।

           बिच बिच बिछलन बिछ बिछ आई । बिछन बिछावन बिछी बिछियाई ।।

           तनु    केशी    धर  मध्य   प्रकासा । तन  दरपन  बिधु बदन अकासा ।।

           भरित   भरत   भरू  भर   भरतारा । भरनि   भरभरन  भर भरुआरा ।।

           करी  कस  कसन  कसक  कलइयाँ । कह  कास  कासन  का करवैया ।।

           कानन    काहीं    कानन      काही । कहीन    कही   काही  न  काही ।।


       
       
   डोर      डोर     डर     डोरियाँ     डोला    डोलन   डोल ।
           ढोर      ढोर     डर     ढोरिया     ढोला    ढोल     ढोल ।। 
           
           विकूजित    कूजन   कुंचन    कालिका  काल       काश ।
           किर्णकार   किरण   कीरण    कासन    किस   आकाश ।।

           क्षण क्षणदाकर क्षणिक क्षण क्षिद्र क्षितिज क्षयित क्षित ।
           क्षर  क्षरक्षरकर   क्षपाघन    क्षिप्ता   क्षिप्र     क्षिप्तचित ।।

           मध्य   भाग   मणि   दिन   नगर   लोक    मध्यमेश्वर ।

           मध्य         मध्याह्नोत्तर          मध्या         मध्यांतर ।।
 
           सोमवार, 24 सितम्बर, 2012                                                                      


           कह  कह  कहलन  कह कहवैया । कई  कई  कह कन   कन्हैया ।।
           कल की कल कह कल बल हासा । कंठिन  कंठन हर कर कासा ।।

           कनकुटकी   कन  कनफुसकाना । कनियाँ  करन कन कनियाना ।।
           कहा   कही   कहुनी      कहाँका । कहु कहुनाउत कहु कहुवाँ का ।।

           कलि   कलेवर   काहली    काइ । कहु   कहु   कहबर काई काई ।।
           मनहरन    मन      मनोहरताई । मनमथ  प्रिय सम बिधु बधाई ।।

           मनि   धर  यारा  मन मनिहारा । मयुर  मयारी   मयन  मयारा ।।
           मरमर  मलमल   मलयजनिला । माला  धार  कर मल्ली मीला ।।


           मधुकार कृत गुंजन कर पति प्रिय राज रिपु वन ।
           श्री  रिपु  वाक्  कंठी   कर   मधुरई   मधुसूदन ।।


           पति   प्रिय   राज  रिपु  कर   कारी  कृत  कोष ।
           मधुर   कंठी  गात्र  स्वर  गुंजन   जीवन   घोष ।।


           मसि धानी पथ प्रसू मुख मलिन प्रभ मुख मलिंद ।
           महासाराथि  सिद्धि  सुख  अली  अली    अरविंद ।।

           महा   मही   धर   प्राचीर    मर्यादागिर    मीर ।
           मलय मलयागिर समीर अहमिका अहम् महिर ।। 


           मंगलवार, 25 सितम्बर, 2012                                                               

            अगवन अगहन अगि अगियाना । अगीत पछीत एजी अगिहाना ।।
          अगुआ  अगुअन  अगन अगासा । अगरु अगरो अगर अगवाँसा ।।

          अगोट   गोटन    गुरर     गुरेरा । अगोरन   गोर  गन गन गेरा ।।
          अगेंद्र   गोचर   गह  गुन   गोई । गोतन   गोरन  गौकस  गोही ।।

          अग अग अगियन अगनय गारा । अगनयुधारन  अग अगयारा ।।
          अगहन  हटन   गहुँड़   अगहारा । गहन  अगाहन  गारी   गारा ।।

          अगिर  गिर  गियारी   अगिहाई । गिरी गियारन अगन  लगाई ।।


          अगत जगत अगणित लजन अगन के मोल  अगन ।
          अंगार   अगन  शौच   खादन   अगोरिया  अगोरन ।।

          अगत जगत अगणित लजन अगन अगन के मोल ।
          अगार  गारी  गार  गन  अगिर  गिर अगिन गोल ।।
  
          अतीत  अतिहसित  हत  तत:  तीक्ष्ण   तारी  राम ।
          संध्या  सर्पण  सर   सत:   अतेजस   तुहिन  धाम ।।

          अत्री   अत्रैगुण्य  इति  अथ  अथयन अथमन अक्ष ।
          अतिरंजन  रक्त  हत  रथ  अदक्षिण दक्षिणीय दक्ष ।।

          वेश   कार   श्री   दान   धार   वेशन   वेशक  वेश ।
          वेद   वेदन   शीर्ष   सार    वेधस    वेधन      वेध ।।

          विहाय   हाय   हार   हस्त   हति  हर्ता हर हरण ।
          हसितक  हँसन  हरति  हरत देश भूमि वापि वन ।।

          विक्षिता क्षित क्षणीय क्षितिज वीक वीक्ष विकाश ।
          वीचि   क्षोभ  माली वीज विजय कलश  आकाश ।। 


          बुधवार, 26 सितम्बर, 2012                                                                 

          विजन्या  जन  जनित  जन्मन  विज्जल विज विजयोत्सवा ।
          विजयनंदन    निनाद    आनंद    विजित    विजयाभ्युपाया ।।
          विच्छाय छितिज  छिन्न क्षितिज जिगीषा जिगीषु गीतयम् ।
          विजयार्थिन   विजया   जयीन्   विजितेय   जय   जयेशयम् ।।

          विजयेश   केतु   कर   कलश   निनाद नंदन नंद ।
          प्राप्त   पूर्ण   पर्व   यश    विजड़ित    विजयच्छंद ।।

          अस्त  काल  गत  गमन  मय अहि अहेरी अहीर ।
          अह्लिया   अहवल   अह्रय   अहरन   अहलन हीर ।।

          सूर्यवंशी     वन   माल   वंश्य    वंश      विकास ।
          प्रभव प्रभ पाद कमल काल करोज्जवल आकाश ।

          विपिन  चर  विहारिन  वाम  पाठ  पातक पातन ।
          विप विप्र  चरण  बंधु  राम विप्रतिपद्यमान  पन्न ।।

          वारिधि  धारा   धार   धर   वारासन  दल  धान ।
          वार   पार   वाणि   वल्लर   अधराधर  वपुमान ।।

          वनराजी   गोचर   गहन   शोभन   भूषण  माल ।
          चंद्रिका   चंपक   चंदन   हास    विलासन  भाल ।।

          आनंद   घन  मंगल  वन   आनयन   नयनायन ।।
          आवक  वक्ष  कक्ष अक्षायन आसन अवनासन्न ।।


          गुरूवार, 27 सितम्बर, 2012                                                                   


          गँव  गँवर दल बहोरन गैयाँ । गसन कसन गव गहनि गहैया ।।
          गोड़ गोड़ गउ पति पथ पूरा । बाँ  बाँ   करन   बहोरन  बहुरा ।।

          बध बध बाँधन बाँधनीपौरि । गँव   गेराँवर    पौरक     पौरी ।।
          ग्वालबाल   धर  बालुधाना । गउ  कुंजर  कुल  गररन दाना ।।

          गरी गरासन गवय  संजुआ । गउधन   दोहन   दोहनी   दुहा ।।
          बाहरिपु  बध  बाहिक  भारा । बहनु   बाहनी   बाहन    कारा ।।

          घर घर जुगतन जोतन जाये । दुआर   बारन  बालन   बसाए ।।
          घरी  घरी  घरघर   घरियारी । घिर   घुंघरारी   घिर  घरवारी ।।
               
          बॉस बास बासक सजन बाँसुरी बास बाँस ।
          बाँस  बाहु  बाहक बहन बासुरा बास बास ।। 

          नीलकंठ खल घल गरल अंकांक गंगधर ।
          नीलकांत  कंठ  कमल अम्बरांत अम्बर ।।   


          शुक्रवार, 26 सितम्बर, 2012                                                                     


         उतार   तारु  तर  चड़ावन चारु । इतै   उतपातन    उतै       उतारू ।।
         इत   इतरावन    उत   उतराहा । उतपट    उतपत    उर   उपराहा ।।

         उछकन  उछरन  छावन  छायी । उचकन  उजकन   उजरन   जाई ।।
         उझकन बिछकन उर उँजियारी । उंछ   सील   उछ   उजर  उजारी ।।

         चिरि  चिरौरीन चिरि चिरहारा । चिन चिन चहकन चिन चिन्हारा ।।
         चौंक   चराई    चौक    चिराई । चौकस    कोरन    चौ    चौआई ।।

         उलच उलछर उलझ  उलझौहाँ । उर    उरझेरन    उर    उरझौहाँ ।।
         उट  उट  उटंगन  उठव   उठाई । उड़न   सील   फल  छू उड़ झाई ।।

          अंतरिक्ष  चरन   चौरन   चारा । चुग  चुग चुगा चुगन चिहकारा ।।
          चीं  चीं  चौकन  चोंचन  चोंटा । चुग   चिहुँटन   चेंटुअन चिरौटा ।।



           धरा  धुली  धर  आकाश  हिरन   बिंदु   नीकाश । (कनक पराग प्रकाश)
           नक्त नखत राज निवास नग नग निकर निकास ।। 

           उत्पत  पतन  पताका  पट  उत्क्रमण क्रम क्रांत ।
           उत्कर्ष  क्राम   कृष्ट   कट   उटकर  कलन कांत ।।


          गुरूवार, 25 अक्टूबर, 2012                                                                             

           साँझ गहीहि सकेर सकारे । ढोर गोर गउ फिरहिं दुआरे ।।
           स्याम सरन भय गगन गौरा । सुमद सुम ह्रदय गूंजे भौरा ।।
           संध्या दिन को समेट कर रात में परिवर्तित हो चुकी है, पशु अपने पैर चलकर 
               घर लौट चुके हैं, गौर वर्ण गगन कृष्ण रुप धारण कर चुका है, भौरा मगन हो 
               पुष्प के ह्रदय में गूंज रहा है ।
                
               सुर सुबंसरी अधर पधारे । रागनुरागन  रस रस धारे ।।
           अंजन रंग तरंगहि माला । थिरकइ थारू तरु तीरू तमाला ।।
           सुन्दर बंसी के सुर होटों पर विराज गए, राग एवं प्रेम के रसों को धारण किये हुवे,
               तट के तमाल वृक्ष थिरकते हुवे तरंगों की (सुर) मालाओं में कृष्ण रंग में रंग गए ।

           लहर बहर बहि बहु बहिलाहीं । बलभी बल्लभ भर गल बाहीं ।।
           सलग्न बलग्न बलित बलयिता । सुर सुर सर सर सरसउ सरिता ।।
            आनंद एवं सुख रूपी हवा बहुत प्रकार से बहला रही हैं, प्रिया प्रियतम को आलिंगन 
                कर कटि को बांधे प्रियतम पर झुकी हुई है, सुरों से हवा, नदी व प्रियतमा सभी 
                आल्हादित हैं ।

          फुलफुल फर बर भरू फुलबारी । फहर फहर झर फुहरहिं धारी ।।
          हेम अंक अंग पत अनुगामा । हिमकन बन जिमि हिमबल धामा ।।
           फुले फुले से सुन्दर फूल  वाटिका में भरे हैं , जो हवा के झौंके से ओस की फुआरों 
              को धारण किये हुवे हैं जैसे काले आकाश में चन्द्रमा मोती स्वरूप में शोभाय मान है 
              उसी प्रकार पुष्प पर ओस की बूंद व विष्णु रूपी प्रियतम के पीछे  प्रिया सजी हुई हैं 
               
                 
            हेम अंगद अलंकरण हेमांड अचलंत ।
            हिमांक अगम ऋतु चरण हुलस हुलस हेमंत ।।    
           (चाँद रूपी प्रिया) स्वर्ण आभूषण से सजा   ब्रम्हांडका स्थिर मन सुशोभित है 
                ओसमयी चाँद रूपी ऋतु, उल्लसित हेमंत के आगमन पर चरण छू रही है । 
    

           शुक्रवार, 26 अक्टूबर, 2012                                                             

           लगन लगनबट लट लहराई । लाल ललामहि लहक लहिकाई ।।
           लरि लरि लल करि ललित प्रहारा । लइ बध बेधहिं बारंबारा ।।
           प्रेम बंधन में बंधे  ( प्रिया के)केश लहरा रहे हैं, लाल रंग की सुन्दर बुँदे हिल डुल 
               रही  हैं, हिलती दुलती लड़ियाँ परस्पर लड़ कर प्रियतम को मधुर आघात कर रहीं हैं  
           बार बार के इन आघातो से बानुरी की लय बाधित हो रही है ।

           मन ही मन मोहक मुसुकाहिं । धरि करि मरुरै मनोहर ताहिं ।।
           मसकहि कस कहि कुलि कलैया । सिसकहिं अकुलहिं लहि सौं सैयाँ ।।
            अन्दर ही अन्दर मोहन मोहते हुवे मुस्कराते हैं, कान की बूंदों की कड़िया पकड़कर मोड़ते 
                हुवे हाथ से कस कर पीड़ा पहुंचा भिन्न क्रीडाएं करते हैं, सिसकती हुई व्याकुलित (प्रिया ) 
                सैंया  सम्मुख ले आते हैं  ।  

           बिनत बहु बिधि बिकल भइ भारी । स्याम सलोन नयनु निहारी ।।
           हूकहिं हूटनहि होट हुकारे । देखि दसा हरि हँसे  हुँकारे  ।।
           सुनयना स्याम को  निहारते हुवे बहुत प्रकार से विनती कर रहीं कि यह पीड़ा 
              अधिक हो गई है पीड़ापूर्ण होंठ ( बूंदों को ) पृथक करने हेतु निवेदन कर रहे हैं 
               हरि हाँ हाँ कह प्रेयषी की ऐसी दशा देख हँस पड़े  
             
           कसकहि अस कहि कटकहि काना । दीन नीर बिनु मीन समाना ।।
           हरि कहिं खड़कइ अब लइ मोरी । नहिं नहिं गोरी कहि कर जोरी ।।
            जल के बिना तड़पती हुई मीन के समान प्रेयषी कहती है कि ऐसे कसने से तो कान 
               ही कट जाएंगे, हरि कहते हैं कहो मेरी लय को अब भंग करोगी ?? राधा हाथ 
               जोड़ कहती हैं नहीं !नहीं!! 

           हिलग हिलग हरि हिय लगहिं हरि प्रिया भइ अधीर ।
           हहा हिय हिर कर हिरकहिं हरे न हिय के पीर ।।
            हरि प्रेमवश प्रिया को बाहों में भर लेते है किन्तु प्रिया व्याकुल है 
               हरि  हँस हँस कर हाथों से कटि घेर कर ह्रदय को तो हर लेते हैं 
               किन्तु पीड़ा को नहीं हरते ।   
            
           
           शनिवार, 27 अक्टूबर, 2012                                                        

           अरझइ अरचइ करज छुराई । रसमस कस अस लबक लखाई ।
           दीठ पीठ बत बैस बिरुझई । बोल न बोधहि झुठि मुठि रिसई ।।
           उलझती व अर्चना करती एवं उंगली छूड़ाकर जलते नयन से निहारते हुवे प्रिया 
               कहती है  ऐसे कस के भी कोई आनंदित होता है क्या ??और यूँ झगड़ कर पीठ 
               फेर बोल चाल बंद कर  झूठ मुठ ही रुठ बैठी ।      

           अछ बस जस सस अगड़ अगौहीं । सौरइ ससि सहुँ सहसहि सोही ।।
           निभ नछत पथ नभ चमस खींचे । भुजदंड पास भास भरु भींचे ।।
           जैसे अक्ष के वश चाँद आगे बढ़ अपनी अकड़ दिखला रहा है हंसते सांवलेसांवरे 
              के सामने शशी रूपी प्रियतमा भी शोभायमान है,जिस प्रकार नभ चाँद की किरणों को 
              समेटे हुवे है उसी प्रकार पिया प्रेयषी के प्रेम को कसे हुवे है । 
               
               
           बिसुरइ रुझनइ लछनउ लाखा । लुबुधहिं बोधइ लखन सलाका ।।
           हिरु हिरकन भुज सिरू हनु टेके । लूक लूक लोचन लेखिहिं देखे ।।
           झगड़ती, दुखी होती जलते हुवे ऐसे देख रहीं है मानो ललचाते हुवे प्रेमी से कह रही 
               हो कि यह लक्षमण रेखा है जिसे पार करना कठिन है, ( पिया) कटि को सटाते अपनी 
               ठुड्डी ( प्रिया) के कंधे पर टेक जलते हुवे लोचन को छुपते से छुते व देखते हैं । 

           छुअत खटिकहि पुछत सकुचाए । कनन खगन भए बहुल बितताए ।।
           करक खिसक कहि हिय भरि आई  । पिया न जानिब पिअर पिराई ।।
            कान के छिद्र को छूते संकोच कर पुछते है की कान की चुभन अधिक टीस दे रही है क्या 
                तब प्रिया हाथ हटा क्रोधपूर्ण दूर हटते हुवे भरे ह्रदय से कहती हैं पिया न तो प्रेम पहचानते 
                है न ही पीड़ा ।

               पलक पताका लड़क लड़ाका चटपट बत बढ़चढ़ चढ़ी ।
           छिटक छिटक छट लहर लहट लट जनु झटफुटत फुलझड़ी  ।।
           नयन लगाईं के मेल मिलाई के काहे कर धर कानन कड़ी ।
           ललित लोचनि लवनय ललौहनी लखी लड़ी लर्झरी ।।
           हे मृग लोचनी तुम छोटी सी बात को  बड़ा रही हो एवं इस तरह 
               से दूर हट रही हो मानो फुलझड़ियों से चिंगारी निकल रही हों 
               पिया तुमने  नयन मिला किसलिए इतनी  कस के बुँदे खीची??
               हे सुनयना तुम्हारी आँखों का यह क्रोध बहुंत ही आनंदमयी है ।

               खींच खीच बिनयन भींच  बाहु प्रलंब बिचलन  ।
           जनु कार्तिक के घन घिंच बीच बिजुरी बिरचन ।।
              
               मान मनुहार करते पिया प्रिया को खिंच कर बाहु में भींच लेते हैं 
               वह इस प्रकार विचलित हो रहीं है मानो कार्तिक में बादलों के 
               मध्य बिजली ही रूठी हुई हैं ।


              रविवार, 28 अक्टूबर, 2012                                                              

           छिनु छिनु छितिजहि छबि छहराई । छलनि डार के छाज उराई ।।
           बिनतहिं बत कहिं बारहिं बारे । बाहु जोरंत जय जोहारे ।।
           छण में ही छितिज छन-छन करती जो विद्युत की चमकती शोभा बिखरी हुई है 
               वह मेरी छोटी भूल से उपजी तुम्हारी क्रोध की चिंगारी का स्वरूप है विनय पूर्वक 
               वचन कहते कहते अंत में हाथ जोड़ चरण पकड़ने को हुवे तब : --

           नहिं नहिं अस बस अरच न करहीं । मृदु मन तन तव रस रूप सकलहिं ।।
           नयन अंजनउ  दरस तिहारे । तमि धन दर्पन तवहिं अधारे ।।
          ( प्रिया कहती है ) नहीं नहीं बस ऐसे अर्चना मत कीजिये मेरा यह कोमल मन, तन यह रूप 
               यह प्रेम रस सारे तुम्हारे ही है यह काले नयन तुम्हारे ही दर्शन स्वरूप है मल बिन दर्पण 
               अन्धेरा बिना चाँद का अस्तित्व नहीं उसी प्रकार हरि बिन हरिप्रिया का भी कोई आधार 
                नहीं ।
                
               लसित रसित रतिरस रसवंता । बलित जुबनित  सरित हरि रंता ।।
           कनपत करजहिं करखन कोरे । कित कतिक कहब का का मोरे ।।
           क्रीडाशील रस में आनंदित हो प्रेम में मगन रस में सराबोर प्रियतम कान की बूंदों 
              को छू उन्मादपूर्वक जोड़ अंगों को उँगलियों से स्पर्श कर कहते हैं कहो तो कहाँ, 
              कितने व कौन-कौन  से ( अंग) मेरे हैं ।

              दसन बसन धन दूर धचकाहिं । धत दुतकर कहि कोरहिं काही ।।
          मद भरू बिहबल मोह मुकुलिता । मतिभरम गति हीनहु मन मिता ।। 
           मदोन्मत्त अधमुँदी काम के वश पिया से प्रिया मुस्कराती  हुई साथ ही दूर (हल्के से )
              धकियाती धत धत कहती हैं तुम  ऐसे क्यूँ छू रहे हो ये मन मीत की बुद्धि, निर्बुद्धि  
              हो, बुद्धू हो गए हैं ।

             मदन कंटक आतुर मधुर परसहिं मर्म स्थान ।
          लचक मचक नभ चमस धुर मर मर जिअत जान ।। 
          प्रेम-अनुराग को आलिंगन कर कामदेव के वश प्रिय कोमल अंगो को 
             स्पर्श करते है जिस कारण प्रिया रूपी चाँद नभ में अपनी धूरी पर लचकती 
             चाल से प्राण हरने वाली मधुर ध्वनी उत्पन्न हो रही है ।

             मंगलवार, 30 अक्टूबर, 2012                                                                 

          बहि बहु पहर भय कहि पियाही । फिरि बहु अब गह मुर दर दाहिनाहिं ।।
          कमलिन बंधइ मनोहर जोरी । बहर बहल बन बहहिं बहोरी ।।
          बहुत अन्धेरा होने पर प्रियाने प्रियसे कहा -- हेप्रिय बहुत घूम चुके अब हमारा घर लौटना 
          उपयुक्त होगा । बंधा हुआ यह कमलों का सुन्दर जोड़ा प्रसन्न करने वाले वन से मन बहला 
              लौट चला 

              अधंगन्हिं गह अध बर बहियाँ । बहहिं बैसार बहनइ सैंया ।।
           बसह बधहि धर बैस अधारिहिं । बाहि बाहित बह बहनु बाहिहिं ।।
           आधी बाहों के बीच अर्धांगनी को भर सैंया ने उठा कर वाहन में बैठा दिया । ( और )
              बैल की रस्सी को नियंत्रित कर गाड़ीवां के बैठने के स्थान पर विराज वहन करने 
              वाले वाहन को ले वापस लौट चले ।

              जिमि जिमि झल चल जल जुन्हैया । तिमि तिमि तुर दुर धुर धुरैया ।।
           धूलि ध्वज पटल पिछु पिछारे । थिर तर धुरीन  निअर दुआरे ।।
           जैसे जैसे ज्योतिर्मय रात ज्योति झलकर जलती चलती जा रही थी । वैसे वैसे गाड़ीवान 
               भी गाढ़ी के पहिये को तेज चला जा रहा था । धुल रूपी बादलों को पीछे छोड़ पिया प्रधान 
               ने गाडी ( घर के ) द्वार के पास किनारे पर लाकर रोकी ।

               पौर पौर पुर पहुँचहिं बेला । भव भवन चरन नतैत भेला ।।
               सरन गमन गह सयनागारे । धारागह फुहरहिं निस्तारे ।।  
            नगर, घरद्वार पर समयपूर्वक पहुँच गृह-प्रवेश कर नाते दारों से भेंट किया ।
                चरण विश्राम ग्रहण  हेतु शयन कक्ष की और प्रस्थान किये । ( वहां )
                स्नानागार गार में फुहारों के निचे स्नान कर तरोताजा हुवे ।

                भारइ भरू भुज दल भरन पूँछइ भए भूखन भक्ष ।
               भावुक भाव गति गहन मुसुकहिं गहिं भक्षन कक्ष ।। 
            प्रिय को बाहू में भर कर जब प्रिया ने पुछाकी- भूख लगी है??
            उनके रुवांसे से भावों को समझ कर मुस्कराती हुई 
               भोजन कक्ष की ओर( भोजन लाने हेतु ) बढ़ चली ।      

              बुधवार, 31 अक्तूबर, 2012                                                                        

           तुरतहि गवनइ भवन भंडारा । लल ताईं लइ अवन अहारा ।।
           कोर कोर कर कौर करारे । प्रीति भर बर्धन अधर धारे ।।
           ( प्रिया) तत्काल रसोई गृह गईं एवं प्रीतम हेतु भोजन ले आई । एवं प्रेमपूरित  भोजन के 
               छोटे-छोटे, कौर कर प्रीतम के मुख पर रखती गईं ।।

               प्रियबर बचन भव बदनु भाषे । तव परसब यब रस रस रासे ।।
            तुम्हउ बदनउ बहुहु लबारी । भुक्ति भुखन तव भुगतहु भारी ।।
            प्रियतम के मुख से यह सुन्दर वचन बोले ।  ( हे प्रियतमा ) तुम्हारी उँगलियों के स्पर्श से भोजन
                सरस व स्वादिष्ट हो गया । (प्रियतमा बोली ) तुम्हारे बोल अत्यधिक ही प्रशंसा पूर्ण हैं । तुमने भोजन 
                हेतु भूख को अत्यधिक सहा (अत: भोजन स्वाद पूर्ण प्रतीत हो रहा है) ।

               पेट पुजन कर अगन भुझाई । कर धर पग भर छति पर आहीं ।।
           मंजु मुख गवनि चितब सुहाई । लज सज सजन छांह न छुहाई ।।
           भोजन कर तृप्त हो कर (हरि संग प्रिया) हाथ पकड़ चलकर छत पर आए । मनोहर मुखाकृति 
               धर हंसगमनी ( हर के) नयन व ह्रदय को सुहावनी प्रतीत हो रही है ।  लज्ज से सजी (सजनी)
               सजन पास आने नहीं दे रहीं ।

               भर भुजान्तर धर दुइ हाथा । सइ सइ सक्तहि सयनहिं साथा ।।
           खतमाल गाल केश घनेरे । आजानु बाहु भरु भय घेरे ।।
            प्रीतम ने प्रिया को दोनों हाथों से से बाहों में उठाकर सहसयन हेतु आलिंगन किया ।
                काले बादलों जैसे घने कुंतल घुटने व कंधे सहित बांह भरे एवं पिया पर ही घिर गए  ।

                 संकेत निकेतन नयन संक्रम क्रमनक क्रमन ।
             संकुलित कुल झुलहि सुमन सकुचइ संगहिं सयन  ।।
              संगम सैया पर सह संगम हेतु हर ने प्रिया को आँखों से संगम अभिप्राय संसूचित
                  कर सैया पर विराजित हुवे । कलियों से आच्छादित सुमन झूले पर सजनी सयन हेतु 
                  संकोचपूर्वक सिमटी हुई है ।

                 श्री कंठ निकेतन माल राग रस रवन रंग ।
             शुभग दर्शन शयन काल भय अंगारे अंग ।।
             हरिप्रिया ,हरि के गले में कमल की माला सी सुशोभित हो रहीं हैं अनुराग पूरित 
                 काम क्रीडा रसमग्न है शयन सैया पर भाग्य प्रदान करने वाले श्री के अंग अंगारों
                 के सदृश शोभायमान हैं ।

                बिभावर मुख कान्त कर  सजी सुहागन रैन ।
              बिभूति भूषन भेष धर मंझन मंजुल नैन ।।
              चाँद तारों से प्रज्वलित ज्योत्सना पूर्ण सुहाग की रात सजी हुई है ।
                   श्री,अनुराग पूर्ण आभूषण एवं वस्त्र धारण किये श्रीधर के नयनों में विराजमान हैं  ।।       

      
            सोमवार, 29 अक्टूबर, 2012                                                                

           कमलिन नाभ बन नयन जोरी । निमीलन मगन कमनइ कोरी ।
           नौ तरन तरुन नवल अनंगा । पूर निभानन जुबनइ रंगा ।।
           कमल समूह से सुसज्जित वन के मध्य कमल की पँखुड़ी-सी आँखों वाले हरि 
              हरिप्रिया के नयन-चार हुवे । सुन्दर, चाहने योग्य कामांगों के आलिंगन (हरि)
              चेतना शुन्य हो इन नयनों में उतर से गए ।  पूर्ण चन्द्रमा के समान तेजयुक्त 
              मुख नयन में रंग कर मुग्ध करने वाली नव यौवना के नयन-झील में 
              नौकायन से तैरने लगे ।  

             अवतमस तरन तरित तर ताहि । अवन मन बद्ध अवनिहि धाही ।।
           नयन पदम् पद पथहु बिहारे । निकुंज करि कर कुंचन कारे ।।
           अल्पन्धकार में उतरते उतरते हरि झील के किनारे पहुंच ह्रदय रूपी धरती पर 
               छायादार पथ पर पग रख दिए । कमल जैसे कोमल पग से विहार 
               करते हरि को ( हरिप्रिया ने ) नयनो के उद्यान में कुण्डी लगा कर बंद कर लिया ।

              नयन निमित मित चरनहु नाई । नमत नमत नत निमिखहि झुकाइ ।।
           मुखमंडल कार्मुक कामुक किमि । जुबनइ जामि  मीर जलजल जिमि ।।
            नयनों में मनमीत के चरण चिन्हों को प्रणाम किया । स्वामी को नमन करते हुवे झुके बादल 
               स्वरूप पलकें भी झुक गईं । झुका हुवा मुखड़ा  व् झुकी भवें कासी कामुक लग रही हैं जैसे कि 
               तरुणई रात्रि में जलता हुवा  तरुण चाँद समुद्र के जल में  शीतलता प्राप्ति हेतु व्याकुल हो ।
              सजन बदन रस परसहिं माथा । छिनु छिनु निछिनु  नयन पट नाथा ।।
          मुख कांति कमल कपोल रागा । अभिरति रत पत अधर परागा ।।
            
              पिया का अधर अमृत ललाट को स्पर्श करने लगा । क्षण भर में मोदपूर्ण पिया ने पलकों 
              को चुम्बित कर दिया । कमल से खिले मुखड़े पर सौंदर्यपूर्ण लाली शोभाय मान हो रही है  
           प्रेमलगन में सलग्न पिया के अधरों का पुष्प पराग प्रिया के गालों पर विराजमान हो गया ।

          अपरंच पर भरू भव अधारे । उत उतर इत हरि हनु अपारे ।
        तदनंतर अधराधर धारे । अधरोपर पर अधर पधारे ।।
        दुसरे लालिमा युक्त गाल पर भी पिया का अधिकार हो गया ।  वहां से उतर कर अर्थात 
           नयन रूपी तरनी से उतर कर हरि गहरे सागर के किनारे ठुड्डी के पास पहुँच गए ।
           तात पशचात सागर रूपी निचले अधर को धारण कर ऊपरी अधर पर अपने अधर 
          रख दिए ।

          अधर अधर अधरोत्तर अधिवीत वसित वास ।
        मधु पर्क पिया पयस कर अधृत धीति धर सांस ।।
        नीचे-ऊपर, ऊपर-नीचे अधरों से अधर लिपटे परस्पर स्वसन सुगंधों में बसे 
        अनियंत्रित साँसों के मध्य हरि एवं हरिप्रिया अधरों के अमृत का रस पान कर है ।

           अभिषंजन संगी संग अभिरति रूप रूचि राम ।
        लक्षित लसित लुलित लल अंग ललित ललामिन काम ।।
          अनुराग पूर्ण इस आलिंगन में सजनी-सजन अति मनोहर 
            रूप में दिखाई दे रहें है कामके अभिभूत प्रिय की कामक्रीडा 
            की लालसा लिपटे अंगों के कारण उद्दीप्तमान है ।
              

    


   




           

  
            

  
  


                        
        
         
                  

            

No comments:

Post a Comment